मुकुन्दरा हिल्स टाइगर रिजर्व – राज्य में बाघ संरक्षण का नवविहान

मुकुन्दरा हिल्स टाइगर रिजर्व – राज्य में बाघ संरक्षण का नवविहान

मुकुन्दरा के संरक्षण के पहिये में तब स्पंदन आया, जब रणथम्भोर से मीलों की दूरी तय कर के आये एक बाघ – “ब्रोकन टेल” की वर्ष 2003 में भारतीय रेल से हुई टक्कर में मृत्यु हो गयी। किसी ने सोचा ना था रणथम्भोर और मुकुन्दरा में कोई गलियारा अब भी बचा है। इस बाघ ने लोगों को एक विचार दिया, की मुकुन्दरा को बाघों के लिए एक सुरक्षित स्थल बनाया जा सकता है। यहाँ के लोगों ने अपने प्रयासों से इसे टाइगर रिज़र्व बनवाकर इस दिशा में एक महत्वाकांक्षी कदम बढ़ाया है।

मुकुन्दरा हिल्स टाइगर रिजर्व हाड़ौती में स्थित राजस्थान का तीसरा बाघ संरक्षित क्षेत्र है जो कि हाड़ौती के तीन जिलों – कोटा, बूंदी, झालावाड़ और मेवाड़ के चित्तौड़गढ़ में विद्यमान है। चारों ओर घने जंगलों से घिरा हाड़ौती क्षेत्र चम्बल, काली सिन्ध, पार्वती, परवन जैसी बड़ी व अनेक छोटी-छोटी सदावाही नदियों के कारण जल समृद्ध है। इन नदियों के किनारे कहीं ऊंचे पर्वत, कहीं गहरी घाटियां और बीहड़ जंगल हैं। विंध्यन पर्वतमाला के पहाड़ी मैदान और मालवा पठार से जुड़े होने के कारण यह एक पहाड़ी क्षेत्र है जिसमें मुख्य पर्वत दरा या मुकुन्दरा हिल्स है।

यह रिजर्व कोटा के दक्षिणी भाग पर एक रेखाकारित (linear) वन क्षेत्र है जो चित्तौडगढ़ में, भैंसरोडगढ़ अभयारण्य के पास स्थित श्रीपुरा गाँव से बाडोली होते हुए दक्षिण-पूर्वी दिशा कि तरफ झालावाड़ के गागरोन में परवन और आहू नदियों के संगम तक विस्तृत है। यह वन क्षेत्र मुख्यतः दो समान्तर संकीर्ण रूप से 80 किलोमीटर कि लंबाई में फैली पर्वतमाला के रूप में है। मुकुन्दरा हिल्स कि समुद्र तल से औसत ऊंचाई 300 मीटर जो चाँद बावडी नामक स्थान पर 517 मीटर की उच्चतम ऊंचाई प्राप्त करता है। इन दोनों पर्वतमालाओं के बीच में सघन और सुन्दर वन हैं जो कई प्रकार के वन्यजीवों के लिए जाने जाते हैं। राजस्थान सरकार द्वारा इन घने जंगलों एवं वन्यजीवों को संरक्षित करने के लिए इन्हें वन्यजीव अभयारण्य घोषित किया गया जिनको दरा और जवाहर सागर वन्यजीव अभयारण्य के नाम से जाना गया।

मुकुन्दरा का इतिहास एक झलक में

मुकुन्दरा हिल्स टाइगर रिजर्व की पृष्ठ भूमि में कोटा का अत्यन्त प्राचीन एवं गौरवशाली इतिहास छिपा है। इस क्षेत्र में आदिम युगीन बस्तियों का प्रसार चम्बल अथवा चर्मण्यवती नदी के किनारे हुआ जिससे मुकुन्दरा हिल्स को आदि मानव की शरणस्थली होने का गौरव प्राप्त हुआ। मुकुन्दरा कि पहाड़ियों में बनी प्राकृतिक गुफाओं में आदिम युगीन मानव के कुछ शैल चित्र खोजे गये हैं जिनमें आदिम युगीन जीवन शैली को दर्शाया गया है साथ ही विभिन्न प्रकार के जीवों कि कई आकृतियाँ भी उकेरी गई हैं। ये शैलचित्र युक्त गुफाएँ चम्बल किनारे पहाड़ियों, नारसिंही माताजी, जवाहर सागर बांध, गैपरनाथ, गराडिया महादेव, दरा और कोलीपुरा स्थितः “डाकन का टोल” पर देखे जा सकते हैं। (Sharma, 2017)

Rock Painting - Mukundara

आदिम युगीन जीवन शैली को दर्शाता “डाकन का टोल” पर स्थितः शैलचित्र (फ़ोटो: प्रवीण कुमार)

शैल चित्रों के अलावा यहाँ कुछ प्राचीन शैल आकृतियाँ भी मिली हैं। ब्रिटिश राजनैतिक अभिकर्ता और खोजकर्ता जेम्स टॉड ने 1820 के दशक में 5वीं शताब्दी की एक खंडहर संरचना, “भीम की चौरी” का पता लगाया था। टॉड ने अपने एनल्स एंड एंटीक्विटीज़ ऑफ राजस्थान नामक पुस्तक में उल्लेख किया है कि 17वीं शताब्दी में कोटा के एक शासक ने इसके पास ही एक नई हवेली या कोठी बनाने के लिए इसके पत्थरों का इस्तेमाल किया था। 1998 में, इस हवेली के परिसर में एक खोज के दौरान मकरप्रणाल के रूप में नक्काशी की गई एक प्राचीन आकृति मिली। (Narayan & Mankodi, 2010)

मुकुन्दरा में दो महत्त्वपूर्ण रियासत कालीन गाँव भी हैं। गिरधरपुरा गाँव कोटा राज्य के बसने के पहले से अस्तित्व में है जो कि एक टकसाल हुआ करता था और यहाँ अदालत भी बैठती थी। आज भी गाँव में जगह-जगह प्राचीन मंदिर, बावडी और मकान देखे जा सकते है। दूसरा गाँव है मंदिर गढ़। इतिहासकार डॉ फिरोज अहमद के अनुसार इस गाँव को मालवा के शासक राजा नर बरमन ने बारहवीं सदी में बसाया और कई मंदिर बनवाए इसलिए इसे मंदिर गढ़ कहा जाता है। वहीं कुछ लोगों का मानना है कि इसका नाम महेंद्र भील के नाम पर महेंद्रगढ़ रखा गया था जो कालांतर में मंदिर गढ़ के नाम से जाना जाने लगा। इस गाँव के मंदिरों को मुग़ल शासकों द्वारा खंडित कर दिया गया था। खंडित मूर्तियाँ जगह-जगह ज़मीन में गड़ी हुई देखी जा सकती हैं।

मुकुन्दरा हिल्स टाइगर रिजर्व में ऐतिहासिक महत्व के कई किले भी शामिल हैं जिनमें सबसे महत्त्वपूर्ण है गागरोन का किला। युनेस्को विश्व विरासत गागरोन किला झालावाड़ से 10 किमी दूर काली सिंध नदी और आहु नदी के संगम पर स्थित है। तीन ओर से आहू और काली सिंध के पानी से घिरा हुआ यह एक जलदुर्ग एवं गिरीदुर्ग है। किला विंध्य हिल रेंज की सीधी खड़ी चट्टानों पर एक पठार के पूरे खंड को कवर करता है। किले में तीन परकोटे है जबकि राजस्थान के अन्य किलो में दो ही परकोटे होते है। इसके दो प्रवेश द्वार है जिनमे से एक पहाड़ी की तरफ खुलता है तो दूसरा नदी की तरफ। नदी के किनारे, 93.6 मीटर की ऊँचाई पर सीधी खड़ी पहाड़ी, गिध-कराई किले को दुर्गम बनती थी जिसका निष्पादन (फांसी का दंड) के लिए भी उपयोग किया जाता था। इस किले का निर्माण बारहवीं सदी में डोड परमार शासकों द्वारा करवाया गया था, जो बाद में खींची (चौहान) शासकों के शक्ति केन्द्र के रूप में विख्यात हुआ। (UNESCO Addendum, 2013)

विश्व विरासत होने के साथ ही ये दुर्ग हीरामन तोते के लिए भी जाना जाता है जिसे यहाँ गागरोनी तोता (Alexandrine parakeet – Psittacula eupatria) कहा जाता है। गागरोनी तोता पुराने समय में यहाँ हजारों कि संख्या में पाए जाते थे जो अब अज्ञात कारणों से बहुत कम रह गए हैं।

कोटा शहर चंबल नदी के दाहिने किनारे पर राजस्थान के दक्षिण-पूर्वी भाग में स्थित है, जिसे हाड़ौती या हाड़ाओं की भूमि के रूप में जाना जाता है। ऐतिहासिक अभिलेखों के अनुसार कोटा की स्थापना तात्कालिक बूंदी महाराज समर सिंह के पुत्र जेटसी द्वरा भील सरदार ‘कोट्या’ को 1264 के एक युद्ध में मार कर की गयी। कोट्या भील चंबल नदी के निकट स्थित अकेलगढ़ का शासक था जिसके किले के अवशेष आज भी उपस्थित है। जेटसी का पुत्र सुरजन, कोट्या की वीरता से प्रभावित था तथा इस भीलों के राज्य का नाम कोटा रख दिया। संभवतः कोटा एक-मात्र नगर है जो किसी विजयी के स्थान पर पराजित व्यक्ति के नाम पर बना है। (Crooke, 2018)

तत्कालीन कोटा राज्य बूंदी, जयपुर, मेवाड़, झालावाड़, टोंक और मध्य प्रदेश की रियासतों से घिरा हुआ था। यह सभी राजपूताना रियासतों के सबसे बड़े जंगलों में से एक था, जो 1900 के शुरुआती भाग में लगभग 3600 वर्ग किमी के क्षेत्र को आच्छादित किये हुए था। इन वनों में विभिन्न प्रकार के बड़े मांसाहारी जीव जैसे बाघ, बघेरा, भालू, लकड़बग्धा और भेड़िये शामिल थे। शाकाहारी वन्यजीवों में सांभर, चीतल, चौसिंघा, नीलगाय और जंगली सूअर भी इन वन खंडों में पाए गए थे। बोराबास विशेष रूप से चीतल समृद्ध होता था जहाँ कभी एक झुण्ड में 500 से अधिक चीतल दिखाई देते थेl कोटा के आसपास काले हिरण और जंगली सुअर आम थे। (Singh & Reddy, 2016)

प्राकृतिक सौन्दर्य और वन्यजीवों का स्वछन्द विचरण यहाँ के शासकों को आखेट के लिए आकर्षित करता था। लेकिन मालवा पठार से लगा हुआ दरा का विस्तृत पहाड़ी क्षेत्र भौगोलिक दृष्टि से दुर्गम क्षेत्र था। जिसको आसानी से केवल दर्रा की नाल (दरा) से होकर ही पार किया जा सकता था। चित्तौड़ से झालावाड़ जाने के लिए यह एकमात्र मार्ग था जो कि कोलीपुरा से 38 किलोमीटर दूर था। यह क्षेत्र कोटा रियासत के द्वितीय शासक राव मुकुन्द का पसंदीदा आखेट क्षेत्र था, राव मुकुन्द की इस क्षेत्र में अत्यधिक रुची होने के कारण दरा कि पहाड़ियों का नाम मुकुन्द दरा पहाड़ियां रख दिया गया था, जिसे कालांतर में मुकुन्दरा (मुकुन्दरा हिल्स) के नाम से जाना गया। टाईगर रिजर्व का नाम पहले राजीव गांधी टाइगर रिजर्व प्रस्तावित था लेकिन इसके मुख्यतः मुकुन्दरा हिल्स पर होने के कारण और दरा के ऐतिहासिक महत्व से प्रेरित होकर मुकुन्दरा हिल्स टाईगर रिजर्व रखा गया है।

राव मुकुन्द अक्सर मुकुन्दरा हिल्स क्षेत्र में आखेट के लिए शिविर आयोजित किया करते थे तथा इस प्रयोजन हेतु राव मुकुन्द ने दरा में महल का निर्माण कराया। यह महल, दरा महल या शिकारगाह के नाम से जाना जाता है जिसे प्रायः जानकारी के अभाव में कई लोग अबली मीणी का महल समझते हैं। जबकि अबली मिणी का महल दरा महल से कुछ ही दूर पहाड़ी पर राव मुकुन्द सिंह द्वारा खैराबाद की रहने वाली उनकी ख्वास अबली मिणी के लिए बनवाया गया था।

राव मुकुन्द सिंह (1648-1658)

मुग़ल बादशाह जहाँगीर द्वारा दरा के क्षेत्र (तत्कालीन खैराबाद के निकट) में सन् 1605 से 1627 ईस्वी के बीच शिकार का वर्णन तुज़्क-ए-जहाँगीरी (जहाँगीर की जीवनी) में किया गया हैं जिसके अलग-अलग अनुवादकों के अलग-अलग वर्णन मिलते हैं। अनुवादक अलेक्जेंडर रोजर के अनुवाद में जहाँगीर को एक शिकार यात्रा के दौरान शिकार शिविर के पास सड़क पर 14  सैंडग्राउस, 3 हेरोन, नीलगाय आदि के शिकार का वर्णन है। उसी शिविर के दौरान बादशाह ने घिरी गाँव के पास एक बब्बर शेर के होने कि खबर पाकर शिकार किया। जैसा कि बब्बर शेर की बहादुरी  स्थापित थी, बादशाह उसकी आंतों को देखना चाहता था तथा उन्हें निकाले जाने पर पाया कि अन्य जानवरों के विपरीत शेर के पित्ताशय उनके जिगर के भीतर थे। बादशाह जहांगीर को लगा शायद शेर इस कारण से साहसी होते है, जबकि असलियत में शेर के पित्ताशय अन्य जानवरों के समान ही होते हैं। (Roger, 2016)

थैक्सन के अनुवाद के अनुसार इस यात्रा के दौरान बादशाह ने 3 हेरोन, नीलगाय, चौसिंघा और बाघ का शिकार किया था। यहाँ यह विचारनिए है कि उल्लेखित हेरोन कि जगह वहाँ सारस या अन्य कोई पक्षी भी हो सकता है। बादशाह के शिकार का विवरण दर्शाता है कि यहाँ बाघ और शेर पाए जाते थे। (Thackston, 1999)

कोटा के कई लघु चित्रों में शेर और चीता शामिल हैं जो यहाँ इनके अस्तित्व को दर्शाते है। चित्रों के आधार पर, कोटा में 18वीं शताब्दी तक शेर थे। 1695-1707 ईस्वी कि एक उत्कृष्ट तस्वीर में कोटा के महाराव राम सिंह I को मुकुन्दरा में शेरों का शिकार करते चित्रित किया गया है। इस तस्वीर में राव राम सिंह I को चार महिलाओं के साथ मचान पर बैठा दिखाया गया है। (Anupama Thakur, 2009)

रामसिंह प्रथम ने दरा के पास ही वर्तमान रावंठा गाँव में एक महल बनवाया था जो कि ब्रिटिश सरकार के राजनीतिक अभिकर्ता कर्नल टॉड के अनुसार पिंडारियो के विरुद्ध युद्ध के समय अक्सर उपयोग में लिया जाता था। उस दौरान यहाँ पर बहुत सघन जंगल थे जिसकी वजह से कालांतर में इस महल को शिकारगाह के रूप में विकसित किया गया, पूर्व में महल का नाम महाराव राम सिंह के नाम पर रामठा महल था, परंतु कालांतर में इसे रावंठा महल के नाम से जाना जाने लगा। राव रामसिंह ने इस महल के पास ही दो पहाड़ियों के बीच एक पक्का बाँध बनाकर एक तालाब का भी निर्माण कराया था, जिसे रामसागर के नाम से जाना जाता है। इस तालाब के भीतर एक जनाना तथा एक मर्दाना दो शिकार मालाओं का निर्माण कराया गया था। ये शिकारमाले दर्शाते हैं कि उस समय महिलायें भी शिकार में रुचि रखती थीं तथा महाराज के साथ आखेट पर जाया करती थी।

रामसागर तालाब के भीतर मौजूद जनाना माला एवं मर्दाना माला (फ़ोटो: हरी मोहन मीना)

उस जमाने में इस रामसागर से एक पक्का धौरा (नाली) भी बनवाया गया था, जिससे आस-पास के क्षेत्र में सिंचाई के लिये पानी लिया जाता था। इसके अलावा झामरा, बेवडा तलाई, गड्ढे का माला, करौंदी कंजार के माले भी शिकार के लिए बनवाए गए शिकारमाले में शामिल है। ऐसा माना जाता है कि महाराव उम्मेद सिंह द्वितीय के शासनकाल के दौरान कोटा रियासत में 150 शिकारमाले हुआ करते थे जहां से वे प्रतिवर्ष 4-5 बाघों का शिकार किया करते थे। (Singh & Reddy, 2016)

शेवदर गंगेयाजी द्वारा चित्रित एक तस्वीर में महाराज दुर्जन साल और जसवंत सिंह को एक सुंदर हरे भरे जंगल में शेर के परिवार देखते हुए दर्शाया गया है जो एक शेर परिवार के साथ उनकी मुठभेड़ को दर्शाता है। 1784 में जोशी हथुवा की एक पेंटिंग में अलनिया के जंगलों में महाराज उम्मेद सिंह प्रथम (1771-1819) को शिकार करते हुए दिखाया गया है। (Thakur, 2009)

कोटा के जंगलों में ढोल (जंगली कुत्ते) भी पाए जाते थे। इन जंगलों में इनको 1920 तक देखा गया जब बीकानेर के महाराजा गंगा सिंह ने बोरबन (संभवतः बोराबास) में एक को देखकर अपनी डायरी में नोट किया, निश्चित रूप से तब भी यह दुर्लभ रहा होगा।

आधुनिक भारतीय शासक अपने शिकार में सैन्य टुकड़ी को भी शामिल किया करते थे जिससे उनकी सेना युद्ध के लिए तैयार हमेशा तयार रहे। उन्नीसवीं सदी की शुरुआत में कोटा राज्य से ढेरों सैन्य टुकड़ी के शिकार में शामिल होने कि गतिविधियों को जेम्स टॉड ने “ए स्पीशीज़ ऑफ पेटी वार” के रूप में चित्रित किया था। (Hughes, 2009)

दरा हमेशा से बाघों का पर्यावास रहा है, 1950 तक कोटा के अधिकतर जंगलों में बाघ पाए जाते थे, जो शिकार के कारण कोटा से विलुप्त हो गए। प्रिया सिंह और डॉ जी वी रेड्डी कि एक रिपोर्ट के अनुसार 1950 – 60 के दशक के दौरान हाड़ौती क्षेत्र में 100 बाघों का शिकार हुआ। 1960 के दशक तक बाघ सिर्फ दरा जैसे जंगलों तक सीमित रह गए, जिसके बाद आबादी घटती गई और 1984 में छीपाबड़ौद क्षेत्र में एक अवयस्क बाघ कि स्थानीय शीर्षस्थ स्टेशन अधिकारी द्वारा तुरंत गोली मारकर हत्या करने के बाद लुप्त हो गई।

मुकुन्दरा के वन:

मुकुन्दरा हिल्स टाइगर रिजर्व के पहाड़ी इलाके, घाटियां और नदी-नाले इस क्षेत्र में समृद्ध जैव-विविधता को बनाए रखते हैं। यहाँ के जंगलों को चैंपियन और सेठ वन वर्गीकरण 1968 के अनुसार 2 व्यापक वन श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है, उष्णकटिबंधीय कांटेदार वन और उष्णकटिबंधीय शुष्क पर्णपाती वन।

धोक (Anogeissus pendula) यहाँ के जंगलों में मिलने वाला मुख्य वृक्ष है, धोक के बाद यहाँ पलाश (Butea monosperma), तेंदू (Diospyros melanoxylon), कड़ाया (Sterculia urens) यहाँ के अधिकांश पहाड़ी क्षेत्रों में पाए जाते हैं। बारिश के दिनों में, काले और सफेद धोक (Anogeissus pendula & A. latifolia) के पेड़ पहाड़ियों को हरियाली देते हैं। शुष्क ग्रीष्मकाल में, पलाश और सेमल अपने फूलों की लाल आभा देकर आकर्षक छटा प्रदान करते हैं।

Wetland - Mukundara

मुकुन्दरा के कई नम-भूमि क्षेत्रों के पास अर्जुन, जामुन बहेड़ा, आदि के छोटे समूह पाए जाते हैं।

करोंदा (Carrisa congesta), गुरजन (Lannea coromandelica), बहेड़ा (Terminalia bellirica), सालर (Boswellia serrata), अमलतास (Cassia fistula), बांस (Dendrocalamus strictus), महुआ (Madhuca indica), बील (Aegle marmelos), बबूल, जामुन (Syzygium cumini), पीपल (Ficus religiosa), बरगद (Ficus benghalensis), नीम (Azadirachta indica), इमली (Tamarindus indica), आम (Mangifera indica) आदि के पेड़ इस वन क्षेत्र में प्रचुर मात्रा में है। अर्जुन (Terminalia arjuna), दूधी (Wrightia tinctoria) और कदंब (Mitragyna parviflora)  भी नम स्थलों और धाराओं में पनपते हैं।

यहाँ कई जगह छोटे भाग में धोक, धावडा, अर्जुन, असान (Terminalia tomentosa), हरड़ (Terminalia chebula), सिरस (Albizia lebbeck), शीशम (Dalbergia spp.), चुरेल (Holoptelea integrifolia) आदि और इनके सहयोगी मिश्रित विविध वन बनाते हैं।

कांटेदार वनों का विस्तार तुलनात्मक रूप से कम दिखाई देता है, इन वनों में खैर (Acacia Senegal), रोंज (Acacia leucophloea), कैर (Capparis decidua), गोया खैर (Dichrostachys cinerea), डंडा ठोर (Euphorbia neriifolia), गुलाबी बबूल (Mimosa hamata) आदि पाए जाते हैं।

कई दुर्लभ पौधों की प्रजातियाँ जैसे सर्पडंडी (Adansonia digitata), खेजरी (Prosopis cineraria), गूगल (Commiphora mukul), विजयसार (Petrocarpus marsupium) जंगली केला (Ensete superbum), उपरारोही और थलीए ऑर्किड जैसे वांडा (Vanda tessilata), Aerides, नर्विलिया (Nervilia araguna), कंदिल पौधे जैसे प्यूरीया (Puraria tuberilata), Corallocarpus epigeous, आरिसेमा (Arisema torusum), हल्दी (Curcuma longa) आदि जैसे पौधे भी मुकुन्दरा में पाए जाते हैं। (Dadhich, 2002)

मुकुन्दरा के वन्यजीव:

यह एक सुखद बात है कि बाघ एक बार फिर से इस क्षेत्र में एक प्रमुख आकर्षण बन चुके हैं। बाघों के अलावा मुकुन्दरा अन्य वन्यजीवों के लिए भी जाना जाता है। यहाँ मांसाहारी जीवों में बघेरा, भेड़िया, लकड़बग्धा, सियार, लोमड़ी  और जंगल कैट आदि पाए जाते हैं।

शाकाहारी जीवों में हनुमान लंगूर, चीतल, सांभर, चिंकारा, नीलगाय, और खरगोश अच्छी संख्या में हैं और सभी मौसमों में आसानी से देखे जा सकते हैं। सर्वाहारी स्थानपाई जीवों में यहाँ भालू, जंगली सूअर, और इंडियन सॅमाल सिविट पाए जाते हैं। यहाँ कई जगह नेवले, चींटीखोर, और साही भी पाए जाते हैं। यहाँ सरीसृपों कि 18 प्रजातियाँ पाई जाती है जिनमें भारतीय अजगर यहाँ मिलने वाला सबसे बड़ा सरीसृप है। (Sultana, 2007)

मुकुन्दरा से पक्षियों की 225 से अधिक प्रजातियां अनुमानित कि गई हैं। जिनमें कई प्रकार के शिकारी पक्षी, उल्लू, सारस क्रेन, क्रेस्टेड सरपेंट, ईगल, शॉट टोड ईगल, पैराडाइज फ्लाई कैचर, इंडियन पिट्टा, विभिन्न प्रजातियों के पैराकीट, प्रिनिया,  नाइटजार, स्टॉर्क बिल्ड किंगफिशर, और मुनिया आदि विशेष आकर्षण के केंद्र हैं।

गागरोन के पास स्थितः लक्ष्मीपुरा और नोलाव के तालाब, गिरधरपुरा के छोटे और बड़े तालाब, श्रीपुरा का तालाब मुकुन्दरा के कुछ महत्त्वपूर्ण आर्द्रभूमि के रूप में प्रवासी पक्षियों का पर्यावास बनाते हैं जहां सर्दियों में हजारों कि संख्या में पक्षी देखे जा सकते हैं। इनके अलावा कडप का खाल में मगर और कछुए देखे जा सकते हैं।

Felis Chaus - Mukundara

सावनभादों बांध के पास जंगल कैट (Felis chaus) को आसानी से देखी जा सकता है।

मुकुन्दरा के सावन भादों बांध में लगभग 80 मगरमच्छ वन विभाग ने छोड़े हैं, जो कि एक बाघ प्रयवास के लिए गलत निर्णय साबित हो सकता है। इस बांध पर कई प्रकार के शिकारी पक्षी देखे जा सकते है, यह प्रवासी गिद्धों  का फीडिंग ग्राउन्ड है। यहाँ जंगल कैट (Felis chaus) भी आसानी से देखी जा सकती है।

दक्षिण-पूर्व एशिया की सबसे बड़ी लुप्तप्राय लॉंग बिल्ड वल्चर कि कालोनी चंबल की लहरदार घाटियों में स्थित है। इन वल्चरस को गैपरनाथ और गराडिया कि कराइयों के पास आसमान में उड़ान भरते देखा जा सकता है। मुकुन्दरा रिजर्व के चम्बल नदी में चिकने फर वाले उदबिलावों को बार-बार कूदते हुए देखा जा सकता है। ये सुबह से शाम के समय बहुत सक्रिय रहते हैं और मानवों के हलचल को महसूस करते ही जोर-जोर से शोर करने लगते हैं। यहाँ कई घंटों तक मगर को बिना हिले डुले घूप सेकते हुए नदी के किनारे और नदी के बीच चट्टानों देखा जा सकता है।

बाघ संरक्षित क्षेत्र होने का सफर:

कोटा के आम जनों का ध्यान मुकुन्दरा हिल्स के टाइगर रिजर्व बनने कि संभावनाओं पर वर्ष 2003 में केंद्रित हुआ जब उन्होंने एक बाघ को अपने वन क्षेत्र में मृत पाया। उस समय किसी ने भी नहीं सोचा होगा कि एक अकल्पनीय मेहमान उनके वनों कि परिभाषा बदल देगा।

2002 में, जब रणथम्भोर प्रबंधन रिजर्व से निकले एक बाघ को खोजने की कोशिश कर रहा था, तब दरा से खबर आई कि कुछ लोगों ने बाघ के पैरो के निशान देखे। पहले तो दरा में बाघ की मौजूदगी की संभावना को खारिज कर दिया गया था, लेकिन पगमार्क के सबूत मौजूद थे। 15 जुलाई 2003 को एक दिल दहला देने वाले दृश्य ने इस रहस्य को सुलझा दिया जब रात में एक बाघ द्रुतगामी राजधानी एक्सप्रेस की चपेट में आने से दरा रेलवे ट्रैक के पास मृत पाया गया। उस मृत बाघ कि पहचान उस समय नहीं हो पाई थी, वन विभाग उसे मध्य प्रदेश से आया हुआ बाघ बात रहा था। वहीं दूसरी ओर रणथम्भोर से निकला बाघ अभी तक लापता था। (Khandal et al., 2014)

Broken Tail

वन्यजीव प्रेमी श्री रवींद्र सिंह तोमर द्वारा 2003 मे लिया गया ‘ब्रोकन टेल’ के रेल दुर्घटना मे मारे जाने के बाद का चित्र जिसने दरा के वनों कि परिभाषा बदलने मे महत्त्वपूर्ण योगदान दिया।

पूरी कहानी आखिरकार अप्रैल, 2005 में सामने आई, जब वन अधिकारियों ने रणथम्भोर के लापता बाघ ‘ब्रोकन टेल’ कि तस्वीर का मिलान मृत बाघ कि तस्वीर से किया। दरा में पाया गया मृत बाघ ‘ब्रोकन टेल’ ही था यह स्थापित हो चुका था। ‘ब्रोकन टेल’ रणथम्भोर से 140 किमी की दूरी तय करके यहाँ पहुँचा था। वह घटना आज भी कोटा के वन्यजीव प्रेमी श्री  रवींद्र सिंह तोमर की आंखों में सुस्पष्ट है। इन्होंने ही उस ऐतिहासिक चित्र को अपने कैमरे में कैद किया जिसने बाघ का दुखद अंत दिखाया। मुकुन्दरा हिल्स को राज्य का तीसरा बाघ अभयारण्य बनाने में उस तस्वीर का अहम योगदान है।

इस दुर्घटना में ‘ब्रोकन टेल’ की मृत्यु के बाद बाघों के जीवन की ऐसी समस्याएँ सामने आईं जिसके बारे में किसी ने कभी नहीं सोचा था – बाघों को अधिक स्थान और आसपास के बाघ पर्यावास (habitat) के साथ संयोजकता (corridor) की आवश्यकता है।  वन विभाग ने इस तथ्य को स्थापित किया कि ‘ब्रोकन टेल’ ने कोटा पहुंचने के लिए विभिन्न पहाड़ी मार्गों का उपयोग किया। फिल्म निर्माता कोलिन स्टैनफोर्ड जॉनसन द्वारा ब्रोकन टेल पर निर्मित एक डॉकउमेन्टरी ने साक्ष्य एकत्र किए और साबित किया कि कोटा तक जाने के लिए बाघ ने पहाड़ी गलियारे का उपयोग किया। ‘ब्रोकन टेल’ द्वारा इस्तेमाल किया गया सटीक मार्ग हमेशा एक रहस्य रहेगा लेकिन एक अन्य बाघिन (टी -35) इस संबंध में अधिक प्रकाश डालती है।

यह अक्सर माना जाता है कि केवल बाघ ही रणथम्भोर से बाहर निकलते हैं लेकिन इस बाघिन ने इस धारणा को गलत साबित किया। टी -35 मूल रूप से रणथम्भोर के गिलई सागर क्षेत्र से थी जो बाहर निकलकर कोटा – सुल्तानपुर क्षेत्र में दिसम्बर 2009  में पाई गई। यह बाघिन मार्च 2016 में खेवड़ा गांव के पास मृत पाए जाने तक इस क्षेत्र में रही।

टी -35 के बाद, रणथम्भोर से एक और बाघ टी – 98 निकला जो आश्चर्यजनक रूप से सुल्तानपुर के जंगलों से होते हुए दरा पहुँचा। नियमित अंतराल पर बाघों का आना साबित करता रहा है कि यह इलाका बाघों के लिए उपयुक्त है जिसे सरिस्का, रथम्भौर, बूंदी और कोटा को मध्य प्रदेश से जोड़ने वाला एक बड़ा गलियारा (corridor) बनाया जा सकता है। मुकुन्दरा को रणथम्भोर से कम से कम दो संभावित गलियारे जोड़ते हैं – एक इंद्रगढ़ के माध्यम से – लाखेरी –  रामगढ़ विषधारी अभयारण्य – डाबी – जवाहर सागर अभयारण्य और दूसरा चंबल और कालीसिंध नदियों से गागरोन होते हुए दरा तक।

इन घटनाओं से प्रभावित होकर तथा रणथम्भौर में बाघों की बढ़ती आबादी और मुकुन्दरा को रणथम्भौर के एक उपग्रह कोर क्षेत्र के रूप में विकसित होने की क्षमता को देखते हुए राजस्थान सरकार ने 9 अप्रैल 2013 को अधिसूचना जारी करके मुकुन्दरा को एक बाघ आरक्षित क्षेत्र घोषित किया। मुकुन्दरा हिल्स के टाइगर रिजर्व बनने में तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंदरा राजे के प्रयास और बाघ विशेषज्ञ वाल्मीक थापर कि सलाह उल्लेखनीय है। ऐसा भी नहीं है कि ये फैसला अचानक लिया गया हो, दरा के वन क्षेत्र को मुकन्दरा टाइगर रिजर्व बनाने का सफर सरकारी स्तर पर 1988 में तत्कालीन वन विभाग के अधिकारियों द्वारा शुरू किया जा चुका था। इसे जवाहर सागर से जोड़ कर विस्तृत राष्ट्रीय उद्यान बनाने की अवधारणा कुछ अधिकारियों कि थी तथा इसका प्रारूप बनाकर राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजा गया। संभवतः इन्हीं प्रयासों का नतीजा था कि 2004 में दरा को मुकन्दरा राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया।

मुकुन्दरा हिल्स टाइगर रिजर्व का मानचित्र (राजस्थान बाइओडाइवर्सटी ऑर्ग, प्रवीण कुमार)

2013 कि अधिसूचना के अनुसार दरा अभयारण्य, जवाहर सागर अभयारण्य, और मुकुन्दरा राष्ट्रीय उद्यान के क्षेत्रों को सम्मिलित करके मुकुन्दरा देश का बयालीसवाँ टाइगर रिजर्व बना। जिसका कुल क्षेत्र 755.99 वर्ग किलोमीटर है। इसमें 417.17 वर्ग किलोमीटर क्रिटिकल टाइगर हैबिटैट (कोर एरिया) और 342.82 वर्ग किलोमीटर बफर एरिया है। कोर एरिया दर्रा वन्यजीव अभयारण्य और जवाहर सागर वन्यजीव अभयारण्य को बनाया गया है। चार नदियां चम्बल, काली सिंध, आहू और आमझर इसकी सीमा निर्धारित करती हैं।

मुकुन्दरा में बाघों कि वापसी:

मुकुन्दरा हिल्स के टाइगर रिजर्व बनने में तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के प्रयास और बाघ विशेषज्ञ वाल्मीक थापर कि सलाह उल्लेखनीय है। मुकुन्दरा हिल्स टाइगर रिजर्व में बाघों कि वापसी के लिए काम 2016 में राजस्थान के तात्कालिक मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक डॉ जी वी रेड्डी कि निगरानी में शुरू हुआ। शुरुआत में NTCA के निर्देशानुसार बाघों के पुनर्वास के लिए शेलजर को उपयुक्त मानते हुए अहाता (enclosure) बनाया गया, लेकिन राजस्थान स्टेट वाइल्ड्लाइफ बोर्ड कि स्टैन्डींग कमिटी ने दरा के वनों को उपयुक्त मानते हुए बाघ पुनर्वासित करने के निर्देश दिए। दरा के वनों को रक्षित करने का कार्य श्री एन सी गोयल के निगरानी में हुआ। दरा के इस वन को चारों तरफ 12 फुट कि दीवार से सुरक्षित करके बाघ के लिए एनक्लोजर बना लगभग 400 जानवर बाघ के शिकार के आधार के रूप में छोड़े गए, जिनमें ज्यादातर चीतल शामिल थे। बाघ को नई जगह के अनुकूल बनाने के लिए पहले एंकलोजर में और फिर बाघ के सामान्य व्यवहार के संकेत दिखने पर बाहर स्थानांतरित कर दिया जाना तय हुआ।

सारी तैयारियों के बावजूद मुकुन्दरा में किस बाघ को भेजना है यह तय नहीं हो पा रहा था, इसी बीच रणथम्भोर से एक बाघ (टी – 91) निकलकर बूंदी के रामगढ़ विषधारी अभयारण्य में पहुँच गया था जिसको ट्रैक करना मुश्किल हो रहा था। वन विभाग और रणथम्भोर में बाघों के संरक्षण के लिए काम कर रही संस्था, टाइगर वॉच कि टीम लगभग पाँच महीने संयुक्त रूप से काम करके इस बाघ को ट्रैक कर रहे थे। ट्रैकिंग के दौरान पता चल कि बाघ जंगल छोड़कर लगातार आबादी वाले क्षेत्रों कि तरफ बढ़ रहा था। नतीजतन, स्थानीय लोगों में घबराहट की भावना थी और बाघ को शिकारियों से शिकार का खतरा भी था। तय हुआ कि इस बाघ को मुकुन्दरा में स्थानतारित किया जाएगा।

आखिरकार, 3 अप्रैल 2018, को वर्षों के इंतज़ार के बाद, मुकुन्दरा को पहला बाघ टी -91 के रूप में मिला। निर्धारित तारीख को वन विभाग की एक टीम द्वारा बूंदी के रामगढ़ विषधारी अभयारण्य में टी-91 को ट्रेंकुलाइज कर, गले में रेडियो कॉलर लगा कर दरा के एनक्लोजर में पहुँचाया दिया गया। स्थानांतरण रणथंभौर के फील्ड डायरेक्टर श्री वाई के साहू मार्गदर्शन में हुआ। बाघ को मुकुन्दरा में आने पर नया नाम मिला मुकुन्दराज, जिसे MT-01 के नाम से भी जाना जाता है।

Mukundraj

टी-91 को बूंदी के रामगढ़ विषधारी अभ्यारण्य से दरा स्थितः सुरक्षित क्षेत्र मे स्थानतंत्रित करने के बाद कि तस्वीर (डॉ धर्मेन्द्र खांडल)

मुकुन्दराज के बाद, रणथम्भोर कि चार बाघिनों टी -102, टी -104, टी -105 और टी -106 को मुकुन्दरा के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया था। ये वो बाघिनें थी जो अपना नया क्षेत्र बनाने की कोशिश कर रही थी या रणथम्भोर से निकलने की कगार पर थीं।  जिनमें से टी -106 को पुनर्वास के लिए चुना गया और 18 दिसम्बर 2018 को ट्रैंगक्वलाइज़ करके लाया गया। इसका नाम MT-02 पड़ा।

मुकुन्दरा में बसने के लिए तीसरे बाघ का चुनाव खुद बाघ ने किया। अपने बाघों को खोने के लिए ख्यात रणथम्भोर एक और बाघ टी – 98 के रूप में खो चुका था, आश्चर्यजनक रूप से ये बाघ सुल्तानपुर के रास्ते मुकुन्दरा पहुँच गया। जब एनक्लोजर के बाहर भी बाघ के हलचल कि आहट मिली तब मुकुन्दरा के डायरेक्टर के अनुरोध पर टाइगर वॉच कि टीम ने एनक्लोजर के बाहर कैमरे लगा कर बाघ को ट्रैक और मानिटर करना शुरू किया। आखिरकार 10 फ़रवरी 2019 को एनक्लोजर के बाहर लगे कैमरा ट्रैप में उसकी फोटो कैद हो गयी। यह बाघ मुकुन्दरा और रणथम्भोर के बीच प्राकृतिक बाघ गलियारे से होते हुए कई दिन सुल्तानपुर के जंगलों में बिताने के बाद अपने आप यहाँ पहुँचा। शुरुआत में इस बाघ के भविष्य को लेकर संशय था लेकिन बाद में इसे मुकुन्दरा के तीसरे बाघ के रूप में स्वीकार करते हुए MT- 03 नाम दिया गया।

टी -98 के बाद मुकुन्दरा को एक और बाघिन टी-83, 12 अप्रैल 2019 को मिली। इसे रणथम्भोर के आमा घाटी से लाकर मुकुन्दरा के एंकलोजर में छोड़ा गया था, जिसे बाद में MT-04 के नाम से जाना गया।

इसके बाद मुकुन्दरा के जंगलों से 2 जून, 2020 को एक बड़ी खबर आई कि यहाँ बाघिन MT-02 को दो शावकों के साथ देखा है। दोनों शावक करीब ढाई माह के थे। यहाँ बाघों की शिफ्टिंग के दो साल बाद बाघिन ने शावकों को जन्म दिया। कोरोना काल में छाई मायूसी के बीच मुकुंदरा टाइगर रिजर्व से आई ये खबर यहाँ के लोगों के लिए एक खुशी कि बात थी, जिसकी खुशी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी ट्वीट के माध्यम से जताई और कहा कि इनका आना हमारे लिए उत्साह जैसा है। हमें मिलकर बाघों का और वन्यजीवों का संरक्षण करना है।

मुकुन्दरा हिल्स टाइगर रिजर्व:  आगे की राह

कोटा के लोगों कि मेहनत रंग लाई और आज मुकुन्दरा के वन एक बार फिर से बाघ की दहाड़ से गूंज रहे हैं। मुकुन्दरा हिल्स आज एक टाइगर रिजर्व के रूप में ढल चुका है। बाघों का उपहार कोटा वासियों के लिए एक जिम्मेदारी भी है। जिम्मेदारी बाघ को सुरक्षित रखने कि, कोर एरिया से जैविक दबाब कम करने कि, मानव-पशु संघर्ष जैसी घटनाओं को रोकने कि। मुकुन्दरा के विकास में कई ऐसे कारक है जो विकास में अवरोधक साबित हो सकते हैं। (फ़ोटो: हरी मोहन मीना)

मुकुन्दरा के विकास में सबसे बड़ा अवरुद्ध साबित होता है कोर एरिया को कवर करते पर्याप्त बफर एरिया का ना होना। जैसा कि शुरुआत में बताया गया था मुकुन्दरा एक रेखाकारित आकार में फैला वन क्षेत्र है जिसके कारण ये रिजर्व लगातार जैविक दबाब को झेलता है। पर्याप्त बफर ना होने के कारण पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने 10 जनवरी 2020 को मसौदा अधिसूचना जारी करते हुए मुकुन्दरा के कई हिस्सों में 1 किलोमीटर दायरे के इको-सेन्सिटिव ज़ोन बनाने के निर्देश जारी करते हुए मंत्रालय ने 60 के भीतर सुझाव और आपत्तियां मांगी थी। यह राज्य का पहला बाघ अभयारण्य है जिसके लिए इको-सेन्सिटिव ज़ोन घोषित हुआ है।

मुकुन्दरा हिल्स टाइगर रिजर्व के दायरे में गिरधरपुरा, दामोदरपुरा, लक्ष्मीपुरा, मशालपुरा, खरली बावड़ी, रूपपुरा कोलीपुरा, दरा, भूखी, घाँटी, बगीचा, रोझड़ा तालाब, नारायणपुरा, अंबा रानी, और नोसेरा समेत 14 गांव है। ये कोटा के अलावा बूंदी, झालावाड़ व चित्तौड़गढ़ जिलों की सीमा में है। मुकुन्दरा के इन गाँवों के बड़ी संख्या में ग्रामीण गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करते हैं और अपने पशुधन – बकरियों, भेड़ों, और मवेशियों – पर जीवित रहने के लिए बहुत अधिक निर्भर हैं जो कि स्वाभाविक रूप से रिजर्व में अपार जैविक दबाव का कारण है। जहां मुकुन्दरा कि परिधि के अंदर के 14 गाँव पूरी तरह वन संपदा पर आश्रित हैं तो वहीं परिधि के बाहर वाले गाँवों का दबाब भी है।

मुकुन्दरा के टाइगर रिजर्व बनने के बाद केंद्र सरकार ने इन गाँवों के विस्थापन कि मंजूरी दे दी है जिसके अंतर्गत अभी खरली बावड़ी व लक्ष्मीपुरा को विस्थापित किया जा चुका है। लेकिन फिर भी गाँवों का विस्थापन एक बड़ी समस्या है क्योंकि लोग विस्थापित होने को तैयार नहीं हैं, ज्यादातर ग्रामीणों को लगता है कि उन्हें उचित मुआवजा नहीं मील रहा। गिरधरपुरा गाँव के लोग इसलिए जाने को तैयार नहीं क्योंकि ये लोग हाल ही में बंदा गाँव से पुनर्वासित होकर यहाँ स्थापित हुए है। राणाप्रताप सागर बांध के निर्माण के लिए इन्होंने बंदा गाँव छोड़ था। प्रबंधन को इनके विस्थापन के लिए अन्य ठोस और कारगर फैसले लेने कि जरूरत है।

मुकुन्दरा कि तीसरी बड़ी समस्या है टाइगर रिजर्व के बीच से निकलते रेल मार्ग और राष्ट्रीय राजमार्ग। दरा के संकीर्ण पहाड़ियों के बीच से निकलता रेल मार्ग वन्यजीवों के लिए घातक सिद्ध होता रहा है। दिल्ली – मुंबई रेलमार्ग होने के कारण यह अत्यंत व्यस्त रहता है। यहाँ 2003 में ब्रोकन टैल के अलावा 2017 में एक भालू, 2018 में एक बघेरा और न जाने कितने ही छोटे वन्यजीव मारे जा चुके हैं। वहीं दूसरी ओर दरा के बीच से राष्ट्रीय राजमार्ग भी अक्सर सड़क दुर्घटनाओं का साक्षी रहता है। इसके साथ ही रेलगाड़ियों और सड़क वाहनों से होने वाले ध्वनि और भिन्न प्रकार के प्रदूषण वन्यजीवों के सामान्य जीवन में बाधक साबित होते हैं। हालांकि सड़क समस्या का समाधान सुरंग मार्ग के रूप में प्रस्तावित हो चुका है लेकिन फिर भी इसे बनकर तैयार होने तक समस्या जस की तस बनी रहेगी। वहीं रेल मार्ग का कोई विकल्प नहीं है।

मुकुन्दरा कि चौथी समस्या है वन्यजीवों के शिकार कि। वन्यजीवों का शिकार कभी प्रतिष्ठा के लिए, कभी सजावट के लिए, स्मृति चिन्ह के रूप में, तो कभी पारंपरिक एशियाई उपचार के लिए हजारों सालों से होता आया है। शिकार कि समस्या लगभग सभी जगह के वनों में आम है। यहाँ कई प्रकार के वन्यजीवों के शिकार कि घटनाएँ सामने आती रहती हैं। मुकुन्दरा डायरेक्टर द्वारा संचालित वन विभाग कि टीम यहाँ के वन्यजीवों कि रक्षा कर रही है। तथा बाघ द्वारा मवेशी के शिकार किए जाने पर ग्रामीणों की समस्याओं का निवारण वन विभाग द्वारा जल्द से जल्द किया जाता है ताकि लोगों में बाघ को लेकर कोई नकारात्मक विचार न आए।

Chambal - Mukundara

चारों ओर घने जंगलों से घिरा हाड़ौती क्षेत्र चम्बल, काली सिन्ध, पार्वती, परवन जैसी बड़ी व अनेक छोटी-छोटी सदावाही नदियों के कारण जल समृद्ध है। (फ़ोटो: हरी मोहन मीना)

मुकुन्दरा कि पाँचवी समस्या है रिजर्व में फैलती आक्रामक पौधों की प्रजातियां (invasive plant species)। मुकुन्दरा में कई विदेशी आक्रामक प्रजातियों का विस्तार बेहद तेजी से हो रहा है जैसे के विलायती बबूल (Prosopis juliflora), पुवाड (Cassia tora), कसोद (C. uniflora) और जंगली तुलसी (Hyptis suaveolens)। विलायती बबूल एक कठिन प्रजाति है जिसके काँटे वन्यजीवों को नुकसान पहुंचाते हैं। यह मुकुन्दरा में कई जगह फैल चुका है जिसमे एंकलोजर भी शामिल है, वन विभाग इसके प्रसार को प्रभावी ढंग से जड़ से उखाड़ के संबोधित कर सकता है ताकि एंकलोजर में इसके फैलाव को कम किया जा सके। जंगली तुलसी का विस्तार ज्यादातर रास्तों और तालाबों के किनारे देखा जा सकता है। सावन-भादों बांध, श्रीपुरा,  लक्ष्मीपुरा और नोलाव के तालाब वाले क्षेत्र में ये काफी हद तक फैल चुका है। पुवाड एवं जंगली तुलसी को काट के और ठंडे मौसम में जला के खत्म किया जा सकता है।

इन समस्याओं के अलावा यहाँ के वनों को और अधिक विकसित और लोगों को जागरूक करने कि आवश्यकता है। यहाँ के लोगों को भी समझना होगा कि बाघ केवल एक करिश्माई प्रजाति या कुछ दूर जंगल में रहने वाला एक अन्य जंगली जानवर नहीं है। बाघ अपने पारिस्थितिक तंत्र में शीर्ष शिकारियों के रूप में काम करते हैं जिनको शिकार के लिए परस्पर बड़े क्षेत्रों की आवश्यकता होती है। बाघों के बिना, पूरा पारिस्थितिक तंत्र ध्वस्त हो जाएगा। यहाँ के लोगों को इस रिजर्व को एक जिम्मेदारी के तौर पर देखना एवं इसके विकास के लिए काम करना होगा।

References:

  • Sharma, G.K. (2017). History and Culture of Rajasthan, Garg Book Depot, Delhi.
  • Narayan, Jagat; Mankodi, K. L. (2010). The Case of the Bhim ki Chauri Ruins at Mukandara. Vol. 62, Issue 1. pg.80.Marg: A Magazine of the Arts. Mumbai.
  • UNESCO (2013). Addendum Evaluations of Nominations of Cultural and Mixed Properties to the World Heritage List. Phnom Penh.
  • Crooke, William. (Ed.). (2018). Annals and Antiquities of Rajasthan, v. 3 of 3 by James Tod. eBook, Public domain in the USA. http://www.gutenberg.org/ebooks/57376
  • Singh, P., Reddy, G.V. (2016). Lost Tigers Plundered Forests: A report tracing the decline of the tiger across the state of Rajasthan (1900 to present), WWF-India, New Delhi.
  • Beveridge, Henry (Ed.). (2016). The Tuzuk-i-Jahangiri: or, Memoirs of Jahangir. eBook. Public domain in the USA. http://www.gutenberg.org/ebooks/53674
  • Thackston, Wheeler M. (Ed.). (1999). The Jahangirnama; memoirs of Jahangir, Emperor of India, Oxford University Press, New York.
  • Thakur, Anupama. (2009). A Critical Study of Kota School, Shodhganga: a reservoir of Indian theses. http://hdl.handle.net/10603/96955
  • Hughes, Julie E. (2013). Animal Kingdoms: Hunting, the Environment, and Power in the Indian Princely States, Harvard University Press, USA.
  • Khandal Divya; Khandal, Dharmendra & Sahu, YK. (2014). The Marco Polos of Ranthambhore. pg.58, Saevus Mag., Mumbai.
  • Sultana, F. (2007). A study of the Faunal Diversity of Darrah Wildlife Sanctuary of Hadoti Region, Kota in Rajasthan. Ph.D thesis; University of Kota. Kota.
  • Dadhich, L. (2002). Biodiversity: Strategies for Conservation, Paragon Computers, New Delhi. https://books.google.co.in/books?id=8Ffhvj_7AckC&lpg=PA225&ots=Vs1eL_0Z3D&dq=dadhich%20hadoti%20flora&pg=PP1#v=onepage&q&f=false

 

 

 

पैंगोलिन: अत्यंत दुर्लभ जीव की बढ़ती समस्याएं

पैंगोलिन: अत्यंत दुर्लभ जीव की बढ़ती समस्याएं

एक नजर में दिखने पर किसी को अचम्भित कर देने वाला शर्मीले स्वभाव का वन्यजीव पैंगोलिन राजस्थान में बहुत ही कम तथा सीमित स्थानों पर पाया जाता है, इसकी दुर्लभता के कारण कभी किसी ने सोचा भी न होगा कि पैंगोलिन कि तस्करी राजस्थान से भी हो सकती है।

जून 2020 में मध्य प्रदेश वन विभाग कि स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने एक बड़ी सफलता के साथ वीडियो शेयरिंग साइट यूट्यूब (YouTube) पर पैंगोलिन शल्क बेचने वाले तस्करों के एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है जिनकी पहचान शेर सिंह धाकड़ और राजस्थान के निवासी वकिल उर्फ पप्पू के रूप में हुई है। एसटीएफ के अधिकारी रितेश सरोठिया के अनुसार, एसटीएफ विंग ने शिवपुरी जिले के निवासी शेर सिंह धाकड़ के कब्जे से 2.7 किलोग्राम पैंगोलिन शल्क जब्त किया है। वैश्विक ग्राहकों को आमंत्रित करने के लिए उसने यू-ट्यूब पर अपना मोबाइल नंबर दिखाया था, एसटीएफ ने इसको पकड़ने के लिए एक ग्राहक भेजा और मौके पर गिरफ्तार किया। पुलिस के अनुसार, 10वीं कक्षा का टॉपर धाकड़, पप्पू से शल्क खरीदता था।

वीडियो शेयरिंग साइट यूट्यूब (YouTube) पर पैंगोलिन शल्क बेचने वाला शेर सिंह “शेरु” जब्त शल्कों के साथ (फ़ोटो: रितेश सरोठिया)

अवैध नेटवर्क के भंडाफोड़ के बाद एसटीएफ की यह 12 राज्यों से 165वीं गिरफ्तारी है। इससे पूर्व रणथंभोर स्थित टाइगर वॉच संस्था द्वारा दी गई एक महत्वपूर्ण सूचना के अंतर्गत कार्यवाही करते हुए एसटीएफ द्वारा 27-28 किलो पैंगोलिन शल्क जब्त किया गया तथा एक तस्कर दम्पत्ति (मुन्नी और हरी सिंह) कि गिरफ़्तारी भी कि गई। कार्यवाही के दौरान पाया गया कि भिंड / मोरेना स्थित मोगया सहित अन्य शिकारी जाति के लोग इनकी तस्करी में मदद करते थे और बाघ, बघेरा और अन्य वन्यजीवों कि भी तस्करी में शामिल थे। विश्व में सबसे ज्यादा पैंगोलिन कि तस्करी की जाती है और हर दिन लगभग तस्कर और शिकारी पैंगोलिन शल्क के साथ पकड़े जाते हैं। इसका अन्धाधुन्ध शिकार, बड़े पैमाने पर तस्करी, तेजी से बढ़ता शहरीकरण व इनके घटते प्राकृतिक आवासों से इनकी संख्या में भारी गिरावट आयी है।

पैंगोलिन एक गैर आक्रामक खूबसूरत लेकिन शर्मीला स्तनधारी जीव है। दूर से देखने पर यह छोटा डायनासोर जैसा प्रतीत होता है। गहर-भूरे, पीले-भूरे अथवा रेतीले रंग के इस शुण्डाकार निशाचर जीव को फोलिडोटा (Pholidota) ऑर्डर में रखा गया है। पैंगोलिन का छोटा शरीर एक चीड़ शंकु (pine cone) के समान होता है जिसकी लम्बाई लगभग दो मीटर तथा वजन लगभग पैंतीस किलो तक का होता है। इसके शरीर पर केराटिन के बने शल्क नुमा (scaly) संरचना होती है जो कि इस मासूम जीव का एकमात्र रक्षा तंत्र है। पैंगोलिन ऐसे शल्कों वाला अकेला ज्ञात स्तनधारी है। हालांकि वर्मी (Armadillo) भी कवच युक्त होते हैं लेकिन उनका कवच चमड़े का बना होता है। खतरा महसूस होने पर ये चेहरे को पूंछ में छुपा कर खुद को लपेटकर अच्छी तरह से संरक्षित एक गेंद का रूप ले लेते हैं। नुकीले शल्क इन्हें शिकारियों से सुरक्षा प्रदान करते हैं। इनकी पूंछ नुकीले काँटों के रूप में विकसित होती है जिन्हें ये हथियार के रूप में इस्तेमाल करते हैं।

पैंगोलिन नाम मलय शब्द पेंगुलिंग से आया है, जिसका अर्थ है “जो लिपटकर गोल हो जाता है” भारत में इसे चींटीखोर, वज्रशल्क या सल्लू साँप भी कहते हैं। इस जिज्ञासु कीटभक्षी की विश्व भर में आठ प्रजातियां हैं जो अफ्रीकी और एशियाई महाद्वीप पर पाए जाते हैं। इन आठों ज्ञात प्रजातियों को मनीडे (Manidae) परिवार में रखा गया है। इस परिवार में इनको तीन जातियों में बांटा गया है, मानिस (Manis), फेटाजीनस (Phataginus) और स्मटसिया (Smutsia)। एशिया में पाई जाने वाली चारों प्रजातियां मनीस में शामिल हैं, जबकि अफ्रीका में रहने वाली चार प्रजातियां फेटाजीनस और स्मट्सिया में शामिल हैं।

 

भारतीय पैंगोलिन एक निशाचर प्राणी है जो दिन के समय अपनी माँद में आराम करते हैं और रात में भोजन कि तलाश में बाहर आते हैं। दिन में नींद व आराम में खलल न हो इस हेतु यह बिल के मुहाने को मिट्टी से हल्का सा बन्द कर देता है। ये लगभग 11 फुट गहरी सुरंग खोदकर अपने रहने के लिए 4 प्रकार के माँद का निर्माण करते हैं। पैंगोलिन मुख्यतः कीटभक्षी होते हैं, उनके आहार में अधिकांश चींटियों और दीमक की विभिन्न प्रजातियां शामिल हैं। इनके अलावा ये अन्य कीड़ों, विशेष रूप से लार्वा का भी उपभोग करते हैं। इन्हे आहार में ज्यादा बदलाव पसंद नहीं है, कीटों कि कई प्रजातियाँ उपलब्ध होने के बावजूद भी केवल एक या दो प्रजातियों का ही उपभोग करते हैं। एक पैंगोलिन प्रति दिन 140 से 200 ग्राम कीटों का उपभोग कर सकता है। (Mahmood et al., 2014)

पैंगोलिन की दृष्टि असामान्य रूप से कमजोर होती है जिसकी कमी अत्यधिक विकसित गंध लेने और सुनने की क्षमता से पूरी करते हैं। पैंगोलिन में दांतों कि भी कमी होती है इसलिए इनमें चींटियों और दीमक को खाने के लिए अन्य भौतिक विशेषताएँ विकसित हुई है। जैसे कि मजबूत कंकाल संरचना, मजबूत नुकीले नाखूनों से लैस पंजे। वे अपने शक्तिशाली पंजों का उपयोग दीमक के टीले खोदने और फाड़ने तथा शिकार को पेड़, जमीन और वनस्पति के बीच खोजने के लिए करते हैं। उनकी जीभ और पेट कि संरचना कीटों को पचाने में सहायता करती है। उनकी चिपचिपी लार चींटियों और दीमकों को जीभ से चिपकाने में सहायक होती है। दांतों कि कमी के कारण वे शिकार खोजते (foraging) समय छोटे पत्थरों को निगलते हैं जो उनके पेट में जमा होकर चींटियों को पीसने में मदद करता है। (Mohapatra et al., 2014)

खतरा महसूस होने पर पैंगोलिन एक स्कंक के स्प्रे के समान गुदा के पास ग्रंथियों से एक विषाक्त-महक वाले रसायन का उत्सर्जन कर सकता है। पैंगोलिन की जीभ विशालकाय चींटीखोर कि तरह बहुत लंबी होती है। बड़े पैंगोलिन 1.5 फुट तक अपनी जीभ का विस्तार कीट सुरंगों के अंदर जांच करने और अपने शिकार को प्राप्त करने के लिए उपयोग करते हैं।

 

पैंगोलिन अपने जीवन का अधिकांश भाग एकांत में व्यतीत करते हैं और वर्ष में केवल एक बार प्रजनन करने के लिए गर्मियों या सर्दियों में मिलते हैं। नर अपने क्षेत्र को मूत्र या मल से चिह्नित करते हैं जिससे कि मादाएँ उनको खोज सके। मादाओं के लिए प्रतिस्पर्धा होने पर नर अपने पूंछ का उपयोग आपसी युद्ध के लिए करते हैं। गर्भधारण की अवधि 65 से 70 दिनों कि होती है। इस दौरान नर व मादा पैंगोलिन जोड़े में रहते हैं। मादा साल में एक ही शिशु (पैंगोपप्स) को जन्म देती है। जन्म के समय वजन 80 से 450 ग्राम और औसत लंबाई 150 मिमी (6 इंच) होता है। जन्म के समय शल्क नरम और सफेद होते हैं जो कि कई दिनों के बाद एक वयस्क पैंगोलिन के समान कठोर और काले हो जाते हैं। थोड़े बड़े होने पर पैंगोपप्स को मादाएँ अपनी पूँछ पर बिठाकर जंगल में विहार कराने के दौरान सुरक्षा तथा भोजन खोजने व खाने का हुनर भी सिखाती है। कुछ महीनों बाद शिशु अपनी माँ से अलग हो जाता है। पैंगोलिन पेड़ों पर चढ़ने व पानी में तैरने में दक्ष होते हैं।

भारतीय पैंगोलिन कि उपस्थिति को विभिन्न प्रकार के वनों से दर्ज किया गया है, जिसमें श्रीलंकाई वर्षावन और मैदानी क्षेत्र से लेकर मध्य पहाड़ी स्तर शामिल हैं। यह घास के मैदानों और माध्यमिक जंगलों में भी पाया जा सकता है, तथा रेगिस्तानी क्षेत्रों के लिए अच्छी तरह से अनुकूलित है लेकिन बंजर और पहाड़ी क्षेत्र इसके पसंदीदा आवासों में शामिल है। कभी – कभी यह पैंगोलिन उच्चतम ऊंचाई वाले स्थान जैसे कि श्रीलंका के 1100 मीटर कि ऊंचाई वाले पहाड़ी क्षेत्रों और भारत में 2300 मीटर कि ऊंचाई वाले नीलगिरि पहाड़ों पर भी देखा गया है। यह नरम और अर्ध-रेतीली मिट्टी पसंद करता है, जो कि इनके बिल खोदने के लिए उपयुक्त होते है। (Mohapatra et al., 2015)

वैसे तो पैंगोलिन अपने पर्यावास में व्यापक रूप से वितरित हैं लेकिन कहीं भी आसानी से नहीं दिखते। वर्ष 2019 में राजस्थान के कुम्भलगढ़ वन्यजीव अभयारण्य में 25 सालों बाद पहली बार नजर आया। कुम्भलगढ़ के अलावा जयपुर, सवाई माधोपुर, बारां, और कोटा में भी इसकी उपस्थिति दर्ज कि गई है।(मानचित्र: समाचार पत्रों में प्रकाशित खबरों पर आधारित)

पैंगोलिन अपने प्राकृतिक आवासों में दीमक और चींटियों की आबादी को नियंत्रित कर प्राकृतिक सन्तुलन बनाए रखने में महत्वपूर्ण योगदान करते हैं। लेकिन ग्रामीण व आदिवासी लोग अपनी बेवकूफी व नासमझी के कारण निहायती भोले इन जीवों का बर्बरता पूर्वक शिकार करते हैं। साथ ही हाल के कुछ वर्षों में, लोगों द्वारा पेड़ों कि कटाई से वन क्षेत्र में व्यापक कमी आई है जिसने कई प्रकार के पर्यायवासों को नष्ट कर दिया है। नए और सुगम यातायात सुविधाओं और अच्छे पैसे मिलने के कारण शिकारियों ने स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय खपत के लिए कई दुर्लभ वन्यजीव प्रजातियों की तलाश और तस्करी तेजी से बढ़ा दी है। (Dr Jeff Salz, 2020)

चींटियों की बांबी के पास रहने वाले इस जानवर की तलाश में शिकारियों को मुश्किल नहीं होती। इसके अलावा इसे मारने के लिए उन्हें खास हथियार भी नहीं ले जाने पड़ते हैं। छूने या खतरे का आभास होने पर पेंगोलिन खुद को शल्कों (खोल) में समेटकर फुटबाल की तरह गोल हो जाता है। इसके बाद वह देख ही नहीं पाता कि उस पर हमला किया जा रहा है। शिकारी आसानी से उसे पीट-पीटकर मार डालते हैं।

इसका मांस लजीज होने से चीन व वियतनाम जैसे कई देशों के होटल व रेस्टोरेंट में खाने की लिए बेधड़क परोसा जाता है। वैश्विक स्तर पर इनके मांस, चमड़ी, शल्क, हड्डियां व अन्य शारीरिक अंगों की अधिक मांग होने से इनका बड़े पैमाने पर शिकार करवाया जाता है तथा राष्ट्रीय एवं अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर इनकी भारी मात्रा में तस्करी की जाती है। दूसरी ओर चीन व थाईलैंड जैसे कई देशों में इसके शल्कों का उपयोग यौनवर्धक औषधि व नपुसंकता दूर करने के लिये भी किया जाता है। जबकि आज तक इसका कोई वैज्ञानिक सबूत उपलब्ध नहीं है। पैंगोलिन से बने काढ़े और संक्रमित तरल पदार्थ से इलाज करवाने हेतु पिछले वर्ष तक चीनी सरकार द्वारा नागरिकों को स्वास्थ्य बीमा के रूप में मदद भी दी जाती थी।

यूएस पार्टी सर्किट में शल्क का बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाता है। हाल ही में इंटरपोल की एक रिपोर्ट के अनुसार, पैंगोलिन के 26 प्रतिशत शल्कों को अमेरिका में भेजा जाता है। शल्क का उपयोग क्रिस्टल, मेथामफेटामाइन (methamphetamine ) के निर्माण के लिए किया जाता है, जो पार्टी ड्रग क्रिस्टल मेथ या क्रैंक (crystal meth or crank) का एक महत्त्वपूर्ण घटक है। जानकारी के मुताबिक शल्कों को निकालने की लिये निर्दयतापूर्वक इन्हें जिन्दा ही खौलते गर्म पानी में डाल दिया जाता है। शल्कों का व्यापार गैर कानूनी होने के बावजूद भारत में आज भी इनकी बिक्री बेखौफ होकर धड़ल्ले से होती है।

हालांकि पर्यावरण एवं वन विभाग इन वन्य जीवों की ताजा स्थिति बताने में गुरेज करते हैं। लेकिन फिर भी कुछ राज्यों के विभाग इनके संरक्षण के लिए उतक्रिस्ट कार्य कर रहे हैं। मध्य प्रदेश के अलावा उत्तराखंड वन विभाग ने भी विशेष कार्य बल संगठित किया है जो पंगोलीन को रेडियो टैग करने का कार्य कर रहा है। रेडियो टैग का कार्य अभी शुरुवाती दौर में है और फिलहाल मध्य प्रदेश वन विभाग ने अभी तक दो और उत्तराखंड वन विभाग ने एक पैंगोलिन को टैग किया है। (TOI, 2020)

अन्तरराष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ (IUCN) के नवीनतम अपडेट (2019) के अनुसार पैंगोलिन का भविष्य, आबादी में तेजी से कमी आने के कारण निराशाजनक दिखाई देता है। IUCN के अनुसार विश्व कि आठ प्रजातियों में से तीन प्रजातियाँ (चीनी, सुंडा, और फिलीपीन पैंगोलिन) गंभीर रूप से विलुप्तप्राय हैं, तीन विलुप्तप्राय (भारतीय, सफेद पेट वाले और विशाल पैंगोलिन) और बाकी के दो असुरक्षित है।

पहले से ही दुर्लभ और संकटग्रस्त इस जीव कि समस्याएं और बधाई है चीनी शोधकर्ताओं के नए शोध ने। साउथ चाइना एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का दावा है कि पैंगोलिन, चमगादड़ों और मनुष्यों के बीच कोरोना वायरस का एक मध्यवर्ती मेजबान हो सकता है। इसका अंदाजा पैंगोलिन में पहचाने गए वायरस से लगाया गया जो कि 99% कोरोना वायरस के समान था। हालांकि पैंगोलिन को कोरोना वायरस के कई स्ट्रैनस की मेजबानी के लिए जाना जाता है लेकिन इस प्रेस विज्ञप्ति के पीछे का शोध अभी तक वैज्ञानिक साहित्य में प्रकाशित नहीं हुआ है जिससे इन दावों का मूल्यांकन करना मुश्किल हो जाता है।

वैज्ञानिकों द्वारा वायरस को स्थानांतरित करने का संदेह मात्र पैंगोलिन पर ही नहीं रहा। कोविड-19 के शुरुआती दिनों में चीनी शोधकर्ताओं ने बताया कि मूल रूप से सांप संभावित कैरियर थे लेकिन अब उन्होंने इस विचार का खंडन कर दिया है। 22 मार्च को प्रकाशित एक नए अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि वायरस की प्रोटीन संरचना और जीनोम प्रभावी रूप से सांपों से अलग है।

अभी सर्वसम्मति यह है कि कोरोना वायरस के मूल स्रोत चमगादड़ हैं। चमगादड़ SARS-CoV-2 वायरस के साथ अन्य कई वायरस के एक प्राकृतिक संग्रह केन्द्र के रूप में कार्य करते हैं। 2000 के दशक की शुरुआत में भी चमगादड़ ही SARS वायरस के लिए जिम्मेदार थे। लेकिन एक विचार ये भी है कि किसी अन्य जानवर ने वायरस को चमगादड़ से मनुष्यों में पहुँचाया होगा जो पैंगोलिन हो सकता है। अवैध चीनी व्यापार द्वारा पैंगोलिन का पारंपरिक चीनी चिकित्सा में उपयोग मनुष्यों में संचरण के लिए एक वेक्टर के रूप में सुझाया गया था। पैंगोलिन कोरोवायरस के कई वंशों की खोज और SARS-CoV-2 से उनकी समानता से संकेत मिलता है कि पैंगोलिन SARS-CoV-2 जैसे कोरोनवायरस के होस्ट हो सकते हैं। हालांकि, पूरे जीनोम की तुलना में पाया गया कि पैंगोलिन और मानव कोरोनवायरस अपने RNA का 92% ही साझा करते हैं। (Cyranoski et al., 2020)

अभी तक कोई निर्णायक शोध नहीं होने के बावजूद चीनी वैज्ञानिकों द्वारा पैंगोलिन को वायरस के संभावित ट्रांसमीटर के रूप में सूचीबद्ध करने पर पर्यावरणविदों ने चिंता जताई है। इन शुरुआती अटकलों के कारण पहले से ही संकटग्रस्त इस स्तनपायी के लिए और संकट उत्पन्न हुए हैं। आज बड़े पैमाने पर इनकी हत्या करने का प्रोत्साहन उसी प्रकार मिल है जैसा कि SARS के प्रकोप के दौरान एशियाई पाम सिवेट के साथ हुआ था। (CBS News, 2004) बहरहाल, पंगोलिन के अवैध व्यापार को समाप्त करना वन्यजीवों के उपभोग से जुड़े संभावित स्वास्थ्य जोखिमों को कम करने में योगदान दे सकता है। कोरोना वायरस महामारी के पीछे वन्यजीव व्यापार कि अहम भूमिका को देखते हुए चीन के अधिकारी इसे वन्यजीव बाजारों को खत्म करने वाले एक संकेत के रूप में ले रहे हैं। जो कि आने वाले समय में वन्यजीवों के लिए एक अच्छी खबर हो सकती है।

पंगोलीन संरक्षण के लिए 2016 में, कई देशों ने पैंगोलिन की सभी आठ प्रजातियों को CITES Appendix I श्रेणी में सूचीबद्ध करने के लिए मतदान कर इनके व्यापार पर प्रतिबंध लगाया था। IUCN SSC पैंगोलिन स्पेशलिस्ट ग्रुप ने भी इनके संरक्षण के लिए वर्ष 2014 में “Scaling up Pangolin conservation” नाम से वैश्विक कार्य योजना प्रारंभ कि। (IUCN SSC)

भारत में पाए जाने वाले दोनों प्रजातियों (भारतीय और चीनी पैंगोलिन) को वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 की अनुसूची 1 भाग 1 के तहत सूचीबद्ध किया गया है। इसका शिकार करना, इसको सताना, मारना या पीटना, विष देना, तस्करी करना यह सब गैर कानूनी एवं अपराध की श्रेणी में आते हैं। यह प्रजाति विलुप्त न हो इस हेतु लोगों में जागरूकता लाने व इसके संरक्षण के लिये विश्व भर में प्रतिवर्ष फरवरी माह के तीसरे शनिवार को ‘वर्ल्ड पैंगोलिन डे’ (विश्व चींटीखोर दिवस) मनाया जाता है। लेकिन भारत में इसके प्रति लोगों में उत्साह नजर नहीं आता है।

References:

  1. Cyranoski, David. (2020-02-07). Did pangolins spread the China coronavirus to people? Nature. DOI: 1038/d41586-020-00364-2
  2. Mohapatra, R.K., Panda, S. (2014). Behavioural Descriptions of Indian Pangolins (Manis crassicaudata) in Captivity. International Journal of Zoology. Hindawi Publishing Corporation. Vol. 2014, Article ID 795062. http://dx.doi.org/10.1155/2014/795062
  3. IUCN SSC Pangolin specialist group, Red List Update: https://www.pangolinsg.org/2019/12/23/iucn-red-list-update-highlights-need-for-concerted-conservation-action-for-pangolins/
  4. Zhang, Y. (2020). Protein Structure and Sequence Reanalysis of 2019-nCoV. Proteome Res. 2020, 19, 4, 1351–1360 Publication Date: March 22, 2020 https://doi.org/10.1021/acs.jproteome.0c00129
  5. Mohapatra, R.K., Et al. (2015). A note on the illegal trade and use of pangolin body parts in India. TRAFFIC Bulletin Vol. 27 No. 1. https://www.pangolinsg.org/wp-content/uploads/sites/4/2018/06/Mohapatra-et-al_2015_A-note-on-the-illegal-trade-and-use-of-pangolin-body-parts-in-India.pdf
  1. Mahmood; Irshad; Hussain (2014). “Habitat preference and population estimates of Indian pangolin”. Russian Journal of Ecology. 45 (1): 70–75. DOI:10.1134/s1067413614010081
  2. In a first, MP shows way, radio-tags two pangolins: https://timesofindia.indiatimes.com/city/nagpur/in-a-first-mp-shows-way-radio-tags-two-pangolins/articleshow/cms
  3. Scientists radio-tag Indian pangolin (2020): https://www.thehindu.com/sci-tech/energy-and-environment/scientists-radio-tag-indian-pangolin/articleece
  4. MP: Wildlife STF arrests two for selling pangolin scales on YouTube (2020): https://timesofindia.indiatimes.com/city/bhopal/mp-stf-wildlife-arrests-two-for-selling-pangolin-scales-on-youtube/articleshow/76717230.cms
  5. Civet Cat Slaughter To Fight SARS (2004): https://www.cbsnews.com/news/civet-cat-slaughter-to-fight-sars/

 

 

 

Locusts: Ancient migratory pests

Locusts: Ancient migratory pests

हिंदी में पढ़िए

They came, they saw, they plundered. They settled on every tree and on every blade of grass; they settled on the houses and covered the bare ground. The skies went black and the Pink city turned brown. It had not happened for many a long year; alas it’s happening now and about 23 countries are under their direct impact with many more to join. And the locusts have the impression of not moving away anytime soon all the while working as if sent to destroy humanity…

Much before the humans took over the world, insects have reigned the planet. These ubiquitous creatures can be found under the ground, as low as life could get; and over the ground, as high as our mountains could reach and are very much associated to human life as both useful and harmful creatures. Among the harmful insects are the Desert Locusts defying the zenith of challenges for humans. As per the estimates of Food and Security Organisation, desert locusts affect the livelihood of one in ten people on the planet and hence are deemed to be the deadliest pests infesting the world. The challenges created by them are not new, they find mentions throughout history and have references of existence through early paintings of pre-historic period.

On an average locust hit once in every six years, the hit so intense it seems they have come all together, to end humans all at once. They cover houses, swing against the windows, collapse against moving vehicles, acting as if they are assigned the only task to plunder greenery and cause destruction.

The highly mobile locusts’ swarms cover a huge area ranging from Mauritania to India, Turkmenistan to Tanzania affecting the lives and crops of people inhabiting these countries. World Bank along with various other development-oriented agencies help the countries in coping with the damaging effects and control locusts, however, there is no significant improvement in lives of people as their attack is unconditional, they are not bound to appear every year and don’t follow a determined specific time to attack instead they appear at irregular intervals, many a time after a gap of several years. This is called periodicity of locust activity. India has witnessed several locust plagues and locust upsurges and incursions during the last two centuries including at least 15 recorded cycles since 1812. During recent past India has witnessed 2 major swarms in 1968 and 1993 and the story continues to date with them appearing at regular intervals.

The year 2020, so far, has proved to be miraculously challenging with various natural calamities including one of a kind THE NOVEL CORONA VIRUS, cyclones, earthquakes and floods. While the whole world is fighting the novel coronavirus epidemic by putting humans under lockdown to limit the spread of the virus, nature has created an equally challenging, but not so new, threat in the form of locusts plague in some African and Asian nations, proving humans can be dethroned from earth anytime, without any warning if the interference with nature is not controlled.

These locusts are once again in front of us in their macabre form and wreaking havoc on crops. People this time speculating various causes for their emergence, some say changing land use pattern might be responsible, some other blaming increased greenery in the deserts, yet another group advocating the rising temperature of the Earth. Before getting to know about their arrival, let’s get acquainted with Locust briefly.

Locusts are mainly grasshoppers found in dry grasslands and desert areas. They are the world’s oldest and highly noticeable migratory pests due to their extreme destruction potential. Mistakenly, people also consider long-horned grasshopper to be locusts as they also breed in favourable summer conditions to increase numbers and destroy crops in a limited area.

Locust is the swarming stage of some species of short-horned grasshopper from the family Acrididae. There is no taxonomic difference between locust and grasshopper species, they look similar to grasshoppers but in practice are completely different from them. Grasshoppers are found on agricultural land while locusts are found in desert and arid conditions. No morphological changes are seen in Grasshopper, whereas many changes are seen during the 90 days life cycle of Locusts.

These grasshoppers are usually solitary but under certain circumstances, when their numbers increase, they witness some behavioural changes and undergo phenotypic shift and change phase to turn gregarious and start migrating. This phase change is the only basis of their definition. This change is called “density-dependent phenotypic plasticity” in scientific terms.

Boris Uvarov first described two stages of phage polymorphisms, the solitaria (independently living hoppers) and the Gregoria (hopper living as bands of immature hopper). These are also known as statary and migratory forms although, in true form, their swarms are nomadic rather than being migratory.

Solitary locusts are forced to live together during the dry season due to the limited greenery in the area. Increased tactile stimulation of the posterior leg leads to an increase in serotonin levels that causes the grasshopper to change colour, eat more, and breed easily. Locusts breed in desert areas and often coincide with forests, agricultural areas, and pastoral livelihoods. In all locusts have three breeding seasons: winter breeding (November to December), spring breeding (January to June) and summer breeding (July to October). There is only one season of grasshopper breeding in India, i.e., the summer breeding while our neighbour, Pakistan has both spring and summer breeding seasons.

The life cycle of locusts consists of three distinct stages, egg, hopper and adult. Locusts lay eggs at a depth of 10 cm in moist sandy soil. Gregarious females usually lay eggs in 2-3 pods with 60–80 eggs in a pod. The solitary female mostly lays an average of 150–200 eggs in 3–4 pods. The rate of growth of eggs depends on soil moisture and temperature. There is no growth below 15°C. Incubation period during the optimum temperature of 32–35°C is between 10–35 days.

There are about 28500 species of grasshoppers worldwide, of which only 500 exist in the form of agricultural pests, and only 20 have the potential to become locusts. India is mainly affected by four species of locusts, the desert locust (Schistocerca gregaria), the African migratory locust (Locusta migratoria), the Bombay locust (Patanga succincta), and tree locust (Anacridium spp).

After the incubation is complete the eggs hatch and nymphs come out which are called “hoppers”. The gregarious stage consists of 5 instars and the Solitarius population consists of 5–6 instars. Each instar has different growth and special colour changes. The growth rate of the hopper depends on the temperature. Where it takes 22 days at an average temperature of 37°C, the same can be delayed up to 70 days at an average temperature of 22°C.

Hoppers become adults after the fifth instar stage. This change is called ‘fledging’ and the young adult is called ‘fledgeling’ or ‘immature adult’. The duration of sexual maturity varies. In the appropriate condition, the adult can mature in 3 weeks and can take up to 8 months in frost and/or drought conditions. During this stage, adults fly to search for favourable reproductive status and can travel thousands of kilometres. During this time, if favourable conditions are found at any time, they can become gregarious

Younger grasshoppers are solitary at the time of hatching and are green and brown to fit with their surroundings. When the food is in abundance, dessert locusts increase the number by breeding and achieve a “gregarious state”. Younger immature adults are pink in colour while older adults turn dark red or brown in cold conditions.

As the locusts grow larger and denser, they act in a group with behavioural changes to form a flying flock known as a swarm. The change of grasshopper form is induced by several contacts per minute over a period of four hours. A large swarm spread over an area of thousands of square kilometres can contain billions of grasshoppers, with a population of about 80 million per square kilometre. At this point, the grasshoppers are fully mature and adult. Adults become bright yellow at maturity. Males mature earlier than females. Changes in locust behaviour and physical symptoms are reversible, which can eventually change their original form or pass on to their offspring.

Locusts hatch from an egg to adulthood after a breeding cycle of about three months and can increase in number up to 20 times. It can increase 400 times after six months and up to 8,000 after nine months. They come in swarms of thousands of millions to eat all the leaves, flowers, fruits, seeds, and bark of trees, plants or crops. They sit on trees in such a number that under their weight the tree can even break. A grasshopper makes a meal equal to its weight i.e. at least two grams. The locust of the flying band also shows the cannibalistic action of biting each other during food shortages. Migrations in desert locusts are influenced by their cannibalism. Research by Sepideh Bazzazi suggests that grasshopper swarms are formed because they like to stay one step ahead of their cannibalistic neighbours to protect themselves.

Their emergence as swarms cannot be attributed to a single factor entirely. They follow a sequence. Yes, changing land use pattern and other factors play an important role, but at a particular point following the sequence. For example, the greenery is essential but only after the eggs have hatched into nymphs, to keep them alive.

Dr S. Pradhan in 1967 put forth the Biotic theory of periodicity of locust cycles, who was at that time head of the division of Entomology at the Indian Agricultural Research Institute, New Delhi. Locusts breed in semi-desert areas where sandy soil is suitable for thrusting the eggs up to a depth of 15 cm. While locusts lead a marginal existence in these areas, their vertebrate predators, namely, lizards, snakes, birds, shrews, hedgehogs, moles etc. find it difficult to sustain themselves in the extreme conditions of deserts and semi-deserts and hence gradually move out to the more tolerant areas on the periphery.

But in desert areas, once in a decade or so, there is sufficient rainfall that triggers the growth of sedge grass and other weeds and locust gets a chance to realise its full biotic potential and its population shoots up in the absence of predators that are present outside the breeding areas and cannot move in fast enough to contain its population. Unchecked by the natural enemies, locust moves from the solitary phase to migratory phase and develops into large congregations and eventually to swarms that migrate out of the breeding areas causing immense destruction. Locust swarms having gone out of the desert areas, scattered population of adults and nymphs is left behind which then persists as solitary phase, throughout Mauritania and India, till the arrival of another phase of tolerant environmental conditions.

Grasshoppers are major components of grassland ecosystems around the world and play an important role in trophic mobility and nutrient cycling. But when green grasslands develop due to good rains, locusts take advantage of the greenery and multiply rapidly to increase in number within a month or two and take the shape of a terrible swarm.

If not controlled on time, small groups of wingless hoppers or bands can form a small group or swarm of winged adult grasshoppers called an OUTBREAK and is typically spread around 5,000 square kilometres in a part of a country. If an outbreak or multiple outbreaks concurrently are not controlled and there is widespread or unusually heavy rainfall in the surrounding areas, a series of breeding seasons may occur that would later lead to the formation of hopper bands and adult swarms. This is called UPSURGE and generally affects the entire region.

if an Upsurge is not controlled, and the environmental condition remains favourable for reproduction, locust populations continue to increase in number and size developing into a PLAGUE. Most infestations occur in the form of bands and swarms at the time of the Plague. A major Plague occurs when two or more regions are affected simultaneously.

Locusts outbreaks are common and frequent, with only a few of these outbreaks taking the form of upsurge, and some of the upsurges turn into plagues. The last Plague was observed in 1987–89 and the last major upsurge in 2003–05. Upsurges and plagues do not emerge on a single night, they may take several months to a year or two to develop.

Globally, Locusts are monitored by the Local Watch Department in guidance of Food and Agriculture Organization (FAO) of United Nation, according to which the current locust attack story began in the year 2018 with cyclonic storms and heavy rains on the Arabian Peninsula. The storm of May caused so much water that for the next six months the desert saw the emergence of green landscapes capable of sustaining two generations of locusts. Subsequently, due to the October storms, locusts got another few months to breed and thrive where their three generations grew up. They became dangerous from here and targeted Africa starting in 2019. Locusts increased their populations in remotely undeveloped areas such as Oman and Yemen due to cyclones.

According to FAO’s locust’s expert Keith Cressman, the organization monitors the attacks of locust through human resources and satellites but has failed in this case. Monitoring network collapsed. According to Cressman, no one knew what was happening in the remote area of ​​the Earth then. There is nothing in this area, no roads, no infrastructure, no Facebook, nothing. Some are large mounds of sand, which are no less than skyscrapers.

When locust swarms develop a tendency to live in groups and become gregarious, they rely primarily on carbohydrate-rich foods. The land from which successive crops have been taken and which have been over-grazed lack Nitrogen. Due to this lack of essential nutrient from the soil carbohydrate-rich grasses develop. Experts have found this in studies on South American locusts.

At the end of 2018, when people saw locusts in Oman, the news reached Cressman’s organization and alerted the situation. But it was too late by then. From here locust swarms had reached Yemen and Iran and were continuously coming out of Oman. War-torn Yemen had the crisis of not having the force to fight the locust attack. Yemen received heavy rainfall during these conditions and the locust swarm found a favourable environment to breed and flourish. The locust disaster reached Somalia from here during the last spring and summer seasons (2019) and then wreaked havoc in Ethiopia and Kenya. Last March saw heavy rain in East Africa, which again proved to be a boon for locusts. Over the last forty years, control of desert locusts with preventive strategy has proved effective, but due to negligence and organizational problems, locust swarms have once again become a serious problem.

Locusts are very difficult to control at the time of the attack as they are spread over a large area. Early intervention in locusts is the only successful way to prevent a swarm. Many organizations around the world monitor threats from locusts. They provide forecasts of areas likely to suffer locusts in the near future.

FAO’s Desert Locust Information Service (DLIS) monitors daily weather, ecological conditions and locust conditions from Rome, Italy. The DLIS obtains the results of field survey and control operations conducted by national teams in the affected countries and assesses the current situation by combining this information with satellite data, such as MODIS, rainfall estimates and seasonal temperatures and rainfall forecasts, etc. Information on breeding and migration during the week is estimated.

Locust Warning Organisation (LWO), Directorate of Plant Protection Quarantine and Storage is responsible for monitoring, survey and control of Desert Locust in Scheduled Desert Areas mainly in the States of Rajasthan and Gujarat. The incursion of exotic locust swarms into India is prevented through the organization of suitable control operation. LWO keeps itself abreast with the prevailing locust situation at National and International level through monthly Desert Locust Bulletins of FAO issued by the Desert Locust Information Service. Survey data are collected by the field functionaries from the fields which are transmitted to LWO circle offices, field HQ Jodhpur and Central HQ Faridabad where these are compiled and analysed to forewarn the probability of locust outbreak and upsurges. The locust situation is appraised to the State Governments of Rajasthan and Gujarat with the advice to gear up their field functionaries to keep a constant vigil on locust situation in their areas and intimate the same to nearest LWO offices for taking necessary action at their end. A lot of innovations have been made in the field of locust survey and surveillance for quick transmission of locust survey data, their analysis, decision making, mapping of survey areas through computerization, adoption of new software like eLocust2/ eLocust3 and RAMSES.

Historically, people were incapable of protecting crops from locusts, however, today we have the advantage of deeper knowledge and technology to fight locusts than ancestors, but still the spread over a huge area (16–30 million km), limited Resources, underdeveloped infrastructure and permeability of those areas, etc. make locusts difficult to control or contain.

Currently, the primary method of controlling desert locust swarm is small concentrated doses of organophosphate chemicals (the major ingredient in herbicides and pesticides). Which are done by spraying ultra-low volume (ULV) with vehicle-mounted or aerial sprayers. Locusts acquire the chemical either directly or indirectly by walking on the plant or eating their residues. These controls are carried out entirely by government agencies. DPPQ&S has approved 4 pesticides for use in scheduled desert areas of India. 11 pesticides have been approved for control of desert locust on crops and trees.

Organic pesticides made from fungi, bacteria, and neem extracts are also used to prevent locusts. The effectiveness of many biological pesticides is comparable to traditional chemical pesticides but in general, it takes a longer time to kill pests. To prevent these, farmers in the affected areas have started growing crops that can be harvested before the local swarm season. Additionally, inhibition of serotonin has succeeded in controlling the number of locusts in laboratories, but the field test of this technique is yet to be done.

Desert locust predator includes wasps and flies, parasitoid wasps, predator beetle larvae, birds and reptiles as natural enemies. Recently, Dr Dharmendra Khandal has seen Jacobin cuckoo, peahen hunting them in Sawai Madhopur. But these predators have the impression that they can be effective in keeping solitary populations under control. Due to a large number of locusts in the swarm and hopper bands, their influence against them is limited.

Although it is almost impossible to stop a grasshopper attack, their severity can be reduced by controlling the swarms, destroying a large number of eggs. Stringent efforts are being made in the affected countries to control the current ‘plague’. But how they will end up is difficult to say. At present, only the monsoon will control their swarm to some extent.

(more…)

लग्गर फॉल्कन: लुप्त होता शाही शिकारी

लग्गर फॉल्कन: लुप्त होता शाही शिकारी

लग्गर फाल्कन पक्षियों की दुनिया के माहिर शिकारी है जो बेहद कुशलता से अपने शिकार को पहचानने, पीछा करने और मारने में सक्षम है, राजस्थान में हम यदि इस शिकारी पक्षी को नहीं जानते तो हमारा रैप्टर्स के बारे में ज्ञान अधूरा है

लग्गर फॉल्कन, एक मध्यम आकार का शिकारी पक्षी जो मुख्य रूप से भारतीय उपमहाद्वीप में पाया जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम Falco jugger है तथा यह पक्षी जगत के Falconidae कुल का एक सदस्य है। यह एक फुर्तीला पक्षी है, जो हवा में तेज गति से उड़कर अपनी तेज दृष्टि से शिकार को पकड़ लेता है। तेज उड़ान की गति के कारण ये अक्सर उड़ते हुए पक्षियों को भी अपना शिकार बना लेता है। लग्गर फॉल्कन दुनिया के चार हाइरोफाल्कन (सबजीनस: हायरोफाल्को) में से एक है, तथा यह इस सबजीनस में बड़े बाज़ों में से एक है। ऐसा भी माना जाता है कि हायरोफाल्कन की संपूर्ण जीवित विविधता की उत्पत्ति 130,000 से 115,000 साल पहले, प्लीस्टोसिन के उत्तरार्ध में एमीयन इंटरग्लेशियल में हुई थी। भले ही लग्गर फॉल्कन व्यापक रूप से पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में वितरित हो परन्तु यह एक दुर्लभ प्रजाति है। आज IUCN Red Data list के अनुसार यह एक संकट के निकट अर्थात “Near Threatened” प्रजाति है।

निरूपण/ Description:

लग्गर फॉल्कन एक मध्यम आकार का (कौए से लगभग थोड़ा सा बड़ा), क्षीण बाज़ होता है। रंग-रूप में नर व मादा एक जैसे ही दिखते है परन्तु मादा आकार में नर से थोड़ी बड़ी होती है। वयस्क के शरीर के पृष्ठ भाग गहरे भूरे व स्लेटी भूरे रंग तथा अधर भाग सफ़ेद व हल्के बादामी रंग के होते है। इसका गला व छाती का ऊपरी हिस्सा सादा सफ़ेद तथा छाती के बगल व पेट के पास हल्की लकीरे होती है। इसके सिर का रंग गहरा-भूरा और इसकी आँखों के नीचे की तरफ एक गहरे-भूरे रंग की पट्टी तथा हल्के रंग के भौंहें होते है। पूँछ के बीच वाले पंख प्लेन होते है। इसकी चोंच स्लेटी तथा पंजे पीले रंग के होते हैं। एक वयस्क लग्गर फॉल्कन और साकेर फॉल्कन में आसानी से अंतर किया जा सकता है क्योंकि लग्गर फॉल्कन में शरीर के अधर भाग प्लेन व मूंछो के पास एक स्पष्ट दिखने वाली पट्टी होती है जबकि साकेर फॉल्कन में शरीर के निचले भाग पर गोल धब्बे और मूंछों की पट्टी थोड़ी धुंधली व फैली हुई सी होती है।

जुवेनाइल लग्गर फॉल्कन ऊपर से गहरे भूरे रंग के होते हैं, तथा इन के अंडरपार्ट्स, विशेष रूप से जांघ, फ्लैंक और पेट के निचले सिरे गहरे भूरे (चॉकलेट-ब्राउन) रंग के होते है। सिर के ऊपर हल्का भूरा रंग होता हैं। कई बार जुवेनाइल लग्गर फॉल्कन समान दिखने वाली अन्य प्रजातियों जैसे पेरेग्रीन फॉल्कन और साकेर फॉल्कन के जैसा प्रतीत होता है तथा इनकी पहचान और अलगाव करना थोड़ा सा जटिल कार्य है।

भट्ट एट. अल. (2018) ने पृष्ठ भागों पर पाए जाने वाले निशानों के आधार पर लग्गर फॉल्कन को पांच प्रकारों में बांटा है:

  • टाइप 1 -गहरी-भूरे रंग की प्लूमेग: निचले भाग पूरी तरह से गहरे भूरे रंग के होते हैं तथा इनमें किसी भी प्रकार की लकीरे व् अन्य निशान नहीं होते है।
  • टाइप 2 – भारी धब्बेदार: इसमें निचले भागो पर गहरे भूरे रंग के साथ कुछ सफ़ेद रंग के धब्बे होते हैं, तथा यह स्थिति अधिकतर जुवेनाइल लग्गर में देखने को मिलती है।
  • टाइप 3 – कम धब्बेदार: इसमें धब्बे कम और अधर भाग के सफ़ेद रंग पर दूरी पर फैले होते है। यह स्थिति सबसे अधिक जुवेनाइल या जुवेनाइल से वयस्क हो रहे लग्गर में देखने को मिलती है।
  • टाइप 4 – धारीदार (Streaked) वयस्क: इसमें सफ़ेद व हल्के भूरे रंग के अधर भाग पर कुछ लकीरे होती हैं।
  • टाइप 5 – वयस्क लग्गर में सबसे अधिक यही प्रकार पाया जाता है, इसमें गले, छाती और ऊपरी पेट पर बहुत कम या फिर कोई भी लकीर नहीं होती है।

इतिहास/ History:

लग्गर फॉल्कन का सबसे पहला चित्र थॉमस हार्डविक (Thomas Hardwicke) ने बनाया था। मेजर-जनरल थॉमस हार्डविक (1756- 3 Mar 1835) एक अंग्रेजी सैनिक और प्रकृतिवादी थे, जो 1777 से 1823 तक भारत में थे। भारत में अपने समय के दौरान, उन्होंने कई स्थानीय जीवों का सर्वेक्षण करने और नमूनों के विशाल संग्रह बनाया। वह एक प्रतिभाशाली कलाकार भी थे और उन्होंने भारतीय जीवों पर कई चित्रों को संकलित किया तथा इन चित्रों से कई नई प्रजातियों का वर्णन किया गया था। इन सभी चित्रों को जॉन एडवर्ड ग्रे ने अपनी पुस्तक “Illustrations of Indian Zoology” (1830-35) में प्रकाशित किया था।

थॉमस हार्डविक (Thomas Hardwicke) द्वारा बनाया गया लग्गर फॉल्कन का सबसे पहला चित्र

जॉन एडवर्ड ग्रे (John Edward Gray) ने सन 1834 में लग्गर फॉल्कन को द्विपद नाम पद्धति के अनुसार “Falco jugger” नाम दिया। ग्रे एक ब्रिटिश जीव वैज्ञानिक थे जो लंदन में ब्रिटिश म्यूजियम में जूलॉजी संग्रहण का रख रखाव करते थे। लग्गर फॉल्कन को हमेशा से ही छोटे पक्षियों का शिकार करने के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है। पक्षी विशेषज्ञ TC Jerdon  सन 1864 में भारतीय पक्षियों पर लिखी पुस्तक में बताते है की कई बार उन्होंने भी लगगर फॉल्कन द्वारा लैसर फ्लोरिकन (Lesser Florican) का शिकार किया है। वह बताते है की यह अपने शिकार का तेजी से पीछा करते है और पलक झपकते ही उसको दबोच लेते है। A O Hume अपनी पुस्तक The Nests and Eggs of Indian Birds में बताते हैं की यह पक्षी अक्सर पुरानी ऊँची इमारतों की दीवारों के खोखले स्थानों पर भी घोंसला बना लेता है। Hume बताते है की उन्होंने तुगलक शाह के भव्य मकबरे की बाहरी दीवारों तथा फत्तेतेपुर सीकरी के उच्च द्वार की पार्श्व दीवारों में इसके घोंसले देखे है।

वितरण/ Distribution:

लगगर फॉल्कन, भारतीय उपमहाद्वीप में भारत सहित, दक्षिणी-पूर्वी ईरान, दक्षिणी-पूर्वी अफगानिस्तान, पाकिस्तान, नेपाल, भूटान, बांग्लादेश और उत्तर-पश्चिमी म्यांमार में पाया जाता है। भारत में यह रेगिस्तानी और अर्ध-शुष्क क्षेत्रों में सामान्य तथा दक्षिणी भारत में दुर्लभ माना जाता है। राजस्थान में इसे ताल छापर वन्यजीव अभयारण्य में अच्छी संख्या में देखा जा सकता है, जहां वे प्रजनन के लिए भी जाने जाते हैं। ये पक्षी मुख्यरूप से खुले घास के मैदानों, झाड़ीनुमा जंगलों व खेतीबाड़ी वाले क्षेत्रों में देखे जाते है।

आहार व्यवहार/ Feeding Behaviour:

लगगर फॉल्कन की शिकार करने की कला अपने आप में ही बहुत अद्भुत व् अद्वितीय है क्यूंकि यह मुख्यतः आपसी समन्वय से जोड़े में तेज गति व् दृढ़ संकल्प के साथ अपने शिकार का पीछा कर उसे बीच आसमान में ही दबोच लेते हैं। इसकी चुस्ती-फुर्ती, तेज गति व् तेज नज़र इसे एक माहिर शिकारी बनाती है। लगगर फॉल्कन के भोजन में छोटे पक्षियों के साथ-साथ जेर्बिल, स्पाईनि-टेल्ड लिज़र्ड्स, अन्य छोटी छिपकलियाँ और कृन्तकों का समावेश है। दीक्षित (2018) ने लगगर फाल्कन के जोड़े को ड्रैगन फ्लाइज़ तथा कॉमन क्वेल को खाते हुए भी देखा है। मोरी (2018) ने एक लार्क का सेवन करते हुए भी देखा है।

स्पाईनि-टेल्ड छिपकली को खाते हुए लगगर फॉल्कन (फोटो: डॉ. धर्मेंद्र खांडल)

प्रजनन/ Breeding:

लगगर फॉल्कन के प्रजनन का समय जनवरी से मार्च तक होता है और इस समय में इनको आसानी से जोड़े में देखा जा सकता है। यह आमतौर पर अन्य शिकारी पक्षियों जैसे बाज, चील व कौआ आदि के पुराने घोंसलो को प्रयोग में लेते है। कभी-कभी ये अपने घोंसले पेड़ों के खोल व पुरानी इमारतों में भी बनाते है। घोंसला बनाने के लिए ये अकसर ऐसे स्थान का चुनाव करते है जहाँ बहुत सारे छोटे पक्षी और सरीसृप हो ताकि इन्हे आसानी से भोजन प्राप्त हो सके। इसके घोंसलों की स्थिति भिन्न होती है; जैसे कभी-कभी पीपल जैसे बड़े पेड़ों पर, तो कभी चट्टानों की दरारों में, और कभी-कभी प्राचीन इमारतों की दीवारों में जहाँ एक या दो पत्थर गायब हो जाते हैं। A O Hume अपनी पुस्तक The Nests and Eggs of Indian Birds में बताते हैं की इस पक्षी घोंसला जब पेड़ों पर बनाया जाता है, तो आमतौर पर लगभग 2 फीट व्यास का होता है। यह टहनियों और छोटी छड़ियों से बना होता है परन्तु जब यह किसी अन्य पक्षी के घोंसले पर कब्ज़ा कर लेते है तो यह और भी बड़े आकार का हो सकता है।

खतरे/ Threats:

लगगर फॉल्कन, भारतीय उपमहाद्वीप में पाए जाने वाला सबसे आम फॉल्कन हुआ करता था परन्तु पिछले कुछ वर्षों में इसकी संख्या में तेजी से गिरावट आयी है परिणाम स्वरूप आज यह कोई आम प्रजाति नहीं रही। BirdLife International के सर्वेक्षण के अनुसार आज लगगर फॉल्कन की कुल आबादी केवल 10000-19999 है और यह भी वर्ष प्रतिवर्ष घटती ही जा रही है। IUCN Red Data list के अनुसार यह एक सकंट के निकट अर्थात “Near Threatened” प्रजाति है। यह विभिन्न कारणों से है जैसे कि खेती में कीटनाशकों के उपयोग में तीव्रता से वृद्धि, मानव जनसँख्या का विस्तार, अज्ञानता के माध्यम से उत्पीड़न, अवैध व्यापार तथा बड़े फाल्कन्स को पकड़ने के लिए एक चारे के रूप में प्रयोग होने से संकट झेल रहा है।

इसके अलावा इसके कुछ  प्रमुख आहार जीवों की संख्या में गिरावट, जैसे कि स्पाइन टेल्ड लाइज़र्ड्स, लगगर फॉल्कन की प्रजनन सफलता पर भी नकारात्मक प्रभाव डालते है। लगगर फॉल्कन को हमारी मदद की जरूरत है और इसे अभी इसकी जरूरत है।

 

सन्दर्भ :

  • Rao, A., &Adaki, K., 2018. Notes on the breeding of the Laggar Falcon Falco jugger. Indian BIRDS 14 (5): 139–141.
  • Bhatt, N., Dixit, D. & Mori, D. 2018. Notes on distribution and plumages of Laggar Falcon in Gujarat. Flamingo Gujarat-Bulletin of Gujarat Birds 16(3): 1-7.
  • BirdLife International (2020) Species factsheet: Falco jugger. Downloaded from http://www.birdlife.org (http://www.birdlife.org) on 24/04/2020.
  • Grimmett, R., Inskipp, C. and Inskipp, T. 2014. Birds of Indian Subcontinent. Digital edition.
  • Gray, J.E. Illustrations Indian Zoology. Collection of Major general Hardwicke. Vol II
  • Hume, A.O. 1890. The Nest and Eggs of Indian Birds. 2nd Vol III.
  • Jerdon, T.C. 1864. Birds of India: Being the birds known to inhabit continental India. Vol III. George wyman and co., publishers, La, hare street, Calcutta.pp 623.
  • https://www.currentconservation.org/issues/thomas-hardwicke-1756-1835/

 

Locusts: Ancient migratory pests

टिड्डी या लोकस्ट: दुनिया का सबसे पुराना प्रवासी कीट

टिड्डी दल का आगमन आम तो बिल्कुल नहीं है, वे एक क्रम का पालन करते हुए आते हैं। पहले, एक काफी छोटा झुंड मानो उन्हें भूमि का सर्वेक्षण करने के लिए भेजा गया हो। और फिर आती है एक ऐसी लहर जिसका सिर्फ एक उद्देश्य – दुनिया से हरियाली खत्म करने का…

कीट दुनिया में मानव जाति की तुलना में काफी पहले से मौजूद रहे हैं। जमीन के नीचे से लेकर पहाड़ी कि चोटी तक सर्वव्यापी कीट मनुष्य के जीवन से बहुत हद जुड़े हुए हैं। कुछ उपयोगी हैं तो कुछ अत्यधिक हानिकारक हैं। इन्हीं हानिकारक कीटों में शामिल हैं रेगीस्तानी टिड्डे (डेजर्ट लोकस्ट) जो मनुष्य के लिए चुनौतियों कि पराकाष्ठा रचते हैं। एफएओ के अनुसार ये दुनिया की दस फीसदी आबादी की ज़िंदगी को प्रभावित करते हैं जिससे इन्हें दुनिया का सबसे खतरनाक कीट भी कहा जाता है। इनसे उत्पन्न चुनौतियाँ नई भी नहीं है, वे आदि काल से मानव जाति के लिए संकट साबित होते रहे हैं।

औसतन हर छह वर्षों में एक बार जरूर आते हैं, और ऐसे आते हैं मानो जैसे मनुष्यों का अंत करके ही जाएंगे। वे घरों पर पूरी तरह छा जाते हैं, खिड़कियों पर झूलते हैं, गुजरती गाड़ियों से टकराते हैं और ऐसे काम करते हैं जैसे कि उन्हें सिर्फ विनाश के ही लिए भेजा गया है। (फोटो: डॉ. धर्मेंद्र खांडल)

ये अत्यधिक गतिशील झुंड में मॉरीतानिया (Mauritania) से भारत और तुर्कमेनिस्तान से तंजानिया तक एक विशाल क्षेत्र को प्रभावित करते हैं जिसके कारण इन देशों में रहने वाले लोग बुरी तरह से फसलों के नुकसान को झेलते हैं। विश्व बैंक सहित कई विकास एजेंसियों ने प्रभावित देशों को इनके नियंत्रण में सहायता की है, पर स्थिति में कुछ बदलाव नहीं आया है, क्योंकि इनके आने का कोई निश्चित समय नहीं है। ये अनियमित अंतराल पर तो कभी-कभी कई वर्षों के अंतराल के बाद दिखाई देते हैं। इस अनियमितता को टिड्डी गतिविधि की आवधिकता (periodicity) कहा जाता है। जिसके 1812 के बाद से भारत में कम से कम 15 चक्र दर्ज किए गए हैं। पिछले साठ वर्षों में रेगिस्तानी टिड्डे कि दो बड़ी लहरें (1968, 1993) देखने को मिली है और ये लगातार आज भी अनियमित अंतराल पर आते हैं और एक महामारी बनकर उभरते हैं।

वर्ष 2020, मानव जाति के लिए अब तक काफी चुनौतीपूर्ण साबित हुआ है। जहां एक ओर पूरी दुनिया नॉवेल कोरोनोवायरस महामारी से लड़ रही है और इसके प्रसार को रोकने के लिए ज़िंदगियाँ समेट अपने घरों में बंद है, तो वही दूसरी ओर कुछ अफ्रीकी और एशियाई देशों में प्रकृति ने टिड्डियों के झुंड (लोकस्ट स्वॉर्म) के रूप में एक नया खतरा पैदा किया है। ये टिड्डियाँ एक बार फिर अपने विकराल रूप में हमारे सामने हैं और फसलों पर कहर बरपा रहे हैं। इस बार इनके आगमन के अलग-अलग कारण बताए जा रहे हैं, कोई बदलते भूमि स्वरूप को कारण बता रहा, तो कोई रेगिस्तानी क्षेत्रों में बढ़ी हरियाली, वही कुछ ऐसे भी हैं जो पृथ्वी के बढ़ते तापमान को कारण बता रहे हैं। इनके आगमन के बारे में जानने से पहले लोकस्ट से संक्षिप्त में परिचित हो लेते हैं।

लोकस्ट एक्रीडिडे (Acrididae) परिवार से छोटी सींग वाले टिड्डे (short-horned grasshopper) की कुछ प्रजातियों के झुंड बनाने कि अवस्था (स्वार्मिंग फेज) है। लोकस्ट और ग्रासहॉपर की प्रजातियों के बीच कोई टैक्सोनोमिक अंतर नहीं है, ये ग्रासहॉपर कि तरह ही दिखते हैं लेकिन व्यवहार में उनसे बिल्कुल अलग होते हैं। ग्रासहॉपर कृषि भूमि पर पाए जाते हैं जबकि लोकस्ट रेगिस्तानी और शुष्क परिस्थितियों में पाए जाते हैं। ग्रासहॉपर में कोई रूपात्मक बदलाव देखने को नहीं मिलता जबकि लोकस्ट के नब्बे दिनों के जीवनकाल में कई बदलाव देखने को मिलते हैं।

लोकस्ट दुनिया का सबसे पुराना एवं अत्यधिक विनाश क्षमता के कारण ध्यानाकर्षी प्रवासी कीट है। लोकस्ट मुख्यतः ग्रासहॉपर ही होते हैं जो सूखे घास के मैदान और रेगिस्तानी इलाकों में अत्यधिक पाए जाते हैं। आमतौर पर लोग ग्रासहॉपर (long-horned grasshopper) को भी लोकस्ट समझ बैठते हैं क्यूँकि ग्रासहॉपर भी गर्मियों कि अनुकूल परिस्थितियों में प्रजनन कर संख्या बढ़ाते हैं और एक सीमित क्षेत्र में फसलें नष्ट करते हैं। (फोटो: डॉ. धर्मेंद्र खांडल)

ये टिड्डे आमतौर पर एकान्त वासी होते हैं लेकिन कुछ विशेष परिस्थितियों में फेनोटाइपिक बदलाव (phenotypic shift) के कारण संख्या बढ़ने पर व्यवहार में कुछ बदलाव (phase change) के साथ ये झुण्ड में रहना (ग्रीगेरियस) और प्रवासी व्यवहार (migratory behaviour) का प्रदर्शन करने लगते हैं। बस इसी आधार पर इनको परिभाषित किया गया है। इस परिवर्तन को तकनीकी भाषा में “घनत्व-निर्भर फेनोटाइपिक प्लास्टिसिटी” (density-dependent phenotypic plasticity) कहा जाता है।

पहली बार बोरिस उवरोव (Boris Uvarov) ने अपरिपक्व टिड्डे (immature hopper) के झुंड में रहने वाले हॉपर के रूप में विकसित होने को फेज पॉलीमोरफिसम बताते हुए इनके दो चरणों (phases) कि व्याख्या की, पहला सॉलिटेरिया (solitaria) और दूसरा ग्रेगारिया (gregaria)। इन्हें वैधानिक (statary) और प्रवासी रूप (morphs) के रूप में भी जाना जाता है। (फोटो: डॉ. धर्मेंद्र खांडल)

एकान्तवासी टिड्डे शुष्क मौसम के दौरान सीमित क्षेत्र में बचे पेड़-पौधों के कारण एक साथ रहने के लिए मजबूर होते हैं। पीछे के पैरो की बढ़ती स्पर्श उत्तेजना से सेरोटोनिन के स्तर में वृद्धि होती है जो कि टिड्डे का रंग बदलने, अधिक खाने, और आसानी से प्रजनन करने का कारण बनता है। टिड्डियों का प्रजनन रेगीस्तानी इलाकों में होता है और अक्सर वनों, कृषि क्षेत्रों और देहाती आजीविका के साथ मेल खाता है। टिड्डियों के लिए कूल तीन प्रजनन के मौसम होते हैं (i) विन्टर ब्रीडिंग [नवंबर से दिसंबर], (ii) स्प्रिंग ब्रीडिंग [जनवरी से जून] और (iii) समर ब्रीडिंग [जुलाई से अक्टूबर]। भारत में टिड्डी प्रजनन का केवल एक मौसम, समर ब्रीडिंग, देखने को मिलता है। पड़ोसी देश पाकिस्तान में स्प्रिंग और समर ब्रीडिंग दोनों हैं।

टिड्डियों का जीवन चक्र तीन अलग-अलग चरण होते हैं, अंडा, हॉपर और वयस्क। टिड्डियाँ नम रेतीली मिट्टी में 10 सेन्टमीटर कि गहराई पर अंडे देती हैं। ग्रेगेरीअस मादाएँ आमतौर पर 2-3 बीजकोष (pods) में अंडे देती हैं जिसके एक पॉड में 60-80 अंडे होते हैं। सॉलिटेरियस मादा ज्यादातर 3-4 बीजकोष में औसतन 150-200 अंडे देती है। अंडों के विकास की दर मिट्टी की नमी और तापमान पर निर्भर करता है। 15°C से नीचे कोई विकास नहीं होता है। ऊष्मायन अवधि (incubation period) इष्टतम तापमान (Optimum temperature) 32-35 डिग्री सेल्सियस के बीच 10-12 दिन का होता है।

दुनिया भर में ग्रासहॉपर कि लगभग 28500 प्रजातियाँ हैं जिनमें से मात्र 500 ऐग्रिकल्चरल पेस्ट के रूप में मौजूद है और केवल 20 ही ऐसे हैं जो लोकस्ट बनने कि क्षमता रखते हैं। भारत में मुख्य तौर से चार प्रजातियां, रेगिस्तानी टिड्डा या डेसर्ट लोकस्ट (Schistocerca gregaria), अफ्रीकी प्रव्राजक टिड्डा या अफ्रीकन माइग्रटोरी लोकस्ट (Locusta migratoria), बम्बई टिड्डा या बॉम्बे लोकस्ट (Patanga succincta) और वृक्षीय टिड्डा या ट्री लोकस्ट (Anacridium spp.) सक्रिय रहती हैं। (फोटो: डॉ. धर्मेंद्र खांडल)

ऊष्मायन पूरा होने के बाद अंडे हैच होते हैं और निम्फ (युवा) बाहर आते हैं जिन्हें “हॉपर” कहा जाता है। ग्रीगेरियस चरण में 5 इंस्टार और सॉलीटेरियस आबादी में 5-6 इंस्टार होते हैं। प्रत्येक इंस्टार में एक अलग वृद्धि और विशेष रंग का परिवर्तन होता है। हॉपर का विकास दर तापमान पर निर्भर करता है। जहां 37°C के औसत तापमान पर 22 दिन लगते हैं तो वही 22°C के औसत तापमान पर 70 दिनों तक कि देरी हो सकती है।

पाँचवी इन्स्टार अवस्था के बाद हॉप्पर वयस्क हो जाते है। इस परिवर्तन को ‘फलेजिन्ग’ कहा जाता है और युवा वयस्क को ‘फलेजलिङ्ग’ या ‘अपरिपक्व वयस्क’ कहा जाता है।  यौन परिपक्वता की अवधि भिन्न होती है। उपयुक्त स्थिति में वयस्क 3 सप्ताह में परिपक्व हो सकता है और ठंढे और / या सूखे कि स्थिति में 8 महीने का समय लग सकता है। इस चरण के दौरान वयस्क अनुकूल प्रजनन स्थिति की खोज के लिए उड़ान भरते हैं और हजारों किलोमीटर की दूरी तय कर सकते हैं। इस दौरान अगर किसी भी समय अनुकूल परिस्थितियाँ मिले तो वे ग्रेगेरीअस हो सकते हैं।

युवा अवयस्क टिड्डे हैचिंग के समय एकान्तवासी होते है और अपने परिवेश के साथ फिट होने के लिए हरे और भूरे रंग के होते हैं। जब भोजन बहुतायत में होता है तो डेसर्ट लोकस्ट प्रजनन कर संख्या बढ़ाते हैं और “ग्रेगेरीअस अवस्था” प्राप्त करते हैं। युवा अपरिपक्व वयस्क रंग में गुलाबी होते हैं जबकि पुराने वयस्क ठंड की स्थिति में गहरे लाल या भूरे रंग के हो जाते हैं। (फोटो: डॉ. धर्मेंद्र खांडल)

जैसे-जैसे वे बड़े और सघन होते जाते हैं वे एक समूह के रूप में कार्य करते हुए व्यावहारिक बदलाव के साथ उड़ने वाला झुंड बनाते हैं जिसे स्वॉर्म कहते हैं। टिड्डे के झुंड के रूप में परिवर्तन चार घंटे की अवधि में प्रति मिनट कई संपर्कों से प्रेरित होता है। हजारों वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैले एक बड़े झुंड में अरबों टिड्डे हो सकते हैं, जिनकी आबादी लगभग 80 मिलियन प्रति वर्ग किलोमीटर होती है। इस बिंदु पर टिड्डे पूरी तरह से परिपक्व और वयस्क होते हैं। परिपक्वता पर वयस्क चमकीले पीले हो जाते हैं। नर मादा से पहले परिपक्व होते हैं। टिड्डों के व्यवहार और शारीरिक लक्षणों में परिवर्तन प्रतिवर्ती होते हैं जिससे अंत में अपने मूल रूप में बदल सकते हैं या अपनी संतानों को पारित कर सकते हैं।

लगभग तीन महीने के प्रजनन चक्र के बाद टिड्डे एक अंडे से वयस्क होते हैं और संख्या में 20 गुना वृद्धि ला सकते हैं। यह छह महीने के बाद 400 गुना और नौ महीने के बाद 8,000 तक बढ़ सकता है। ये हजारों लाखों के झुण्ड में आकर पेड़ों, पौधों या फसलों के पत्ते, फूल, फल, बीज, छाल और फुनगियाँ सभी खा जाते हैं। ये इतनी संख्या में पेड़ों पर बैठते हैं कि उनके भार से पेड़ टूट तक सकता है। एक टिड्डा अपने वज़न के बराबर भोजन चट करता है यानी कम से कम दो ग्राम। उड़ते बैंड के टिड्डे भोजन कि कमी के दौरान एक-दूसरों को काटते हुए नरभक्षी क्रिया को भी दर्शाते हैं। रेगिस्तानी टिड्डियों में माइग्रैशन उनकी इस नरभक्षी क्रिया से प्रभावित होता है। सेपीदेह बज़ाज़ी  द्वारा किये शोध से पता चलता है कि टिड्डे के झुंड इसलिए बनते हैं क्योंकि वे अपने नरभक्षी पड़ोसी से खुद को बचाने के लिए एक कदम आगे रहना पसंद करते हैं।

टिड्डियों के स्वॉर्म के रूप में आगमन के लिए पूरी तरह से किसी एक कारण को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। इनके आगमन के पीछे एक प्राकृतिक क्रम है जिसका ये पालन करते हैं। हां, लैंड यूज पैटर्न में बदलाव, बढ़ते तापमान और हरियाली आदि महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, लेकिन इसी प्राकृतिक क्रम में एक निश्चित काल पर। जैसे कि अंडे हैच होने के लिए उपयुक्त तापमान और नमी कि जरूरत, निम्फ्स को वयस्क होने के लिए भोजन के तौर पर हरियाली आदि कि जरूरत। (फोटो: डॉ. धर्मेंद्र खांडल)

टिड्डी दल के आगमन का जैविक सिद्धांत डॉ एस प्रधान द्वारा वर्ष 1967 में दिया गया था, जो उस समय भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली में एंटोमोलॉजी के प्रमुख थे। सिद्धांत के अनुसार टिड्डे अर्ध रेगिस्तानी इलाकों में प्रजनन करते हैं जहाँ 15 सेंटीमीटर की गहराई तक अंडे देने के लिए रेतीली मिट्टी उपयुक्त होती है। टिड्डे इन क्षेत्रों के भीषण वातावरण को सहने में सक्षम होते है, जबकि उनके शिकारी, जैसे कि छिपकली, सांप, पक्षी, छछूंदर, हेजहॉग, मोल्स आदि को रेगिस्तान और अर्ध रेगिस्तान की भीषण स्थितियों का सामना करने में मुश्किल आती है और इसलिए वे धीरे-धीरे भीषण क्षेत्रों कि परिधि पर अधिक सहिष्णु क्षेत्र कि ओर चले जाते हैं।

लेकिन रेगिस्तानी इलाकों में एक या दो दशक में एक बार पर्याप्त वर्षा होती है, जिससे सेज (sedge) घास और अन्य खरपतवारों का विकास होता है और टिड्डों को अपनी पूर्ण जैविक क्षमता के बराबर भोजन मिलता है। शिकारी जीव जो भीषण परिस्थितियों के कारण इनके प्रजनन क्षेत्र से बाहर परिधि कि तरफ चले गए थे, स्थिति सामान्य होने पर टिड्डियों कि आबादी को नियंत्रित करने के लिए पर्याप्त तेजी लौट नहीं पाते। इनकी आबादी शिकारियों की अनुपस्थिति में बहुत तेजी से बढ़ती है। प्राकृतिक दुश्मनों द्वारा अनियंत्रित, टिड्डी एकान्त चरण से प्रवासी चरण की ओर बढ़ती है और बड़े स्वॉर्म में विकसित होती है और अंत में प्रजनन के क्षेत्रों से बाहर निकलती है, जिससे भारी विनाश होता है। लोकस्ट स्वॉर्म के मरुस्थलीय क्षेत्रों से बाहर निकलने के बाद कुछ वयस्क और निम्फ की बिखरी हुई आबादी जो पीछे रह जाती है, सहिष्णु पर्यावरणीय परिस्थितियों के दूसरे चरण के आगमन तक एकान्तवासी चरण के रूप में मॉरिटानिया और भारत के बीच रेगिस्तान में हमेशा मौजूद रहते हैं।

ग्रासहॉपर दुनिया भर के चरागाह पारिस्थितिक तंत्र के प्रमुख घटक हैं और ट्रॉफिक गतिशीलता और पोषक तत्वों के साइक्लिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। लेकिन जब अच्छी बारिश के कारण हरे-भरे घास के मैदान विकसित होते हैं तो ये रेगिस्तानी टिड्डे एक या दो महीने के भीतर तेजी से संख्या बढ़ा इकट्ठे होते हैं और एक भयानक झुंड का रूप ले लेते हैं। (फोटो: डॉ. धर्मेंद्र खांडल)

समय पर नियंत्रित नहीं किये जाने पर पंखहीन हॉपरों के छोटे समूह या बैंड पंखों वाले वयस्क टिड्डे के छोटे समूह या स्वॉर्म का निर्माण कर सकते हैं जिसे एक विस्फोट (OUTBREAK) कहा जाता है और यह आमतौर पर किसी देश के एक हिस्से में लगभग 5,000 वर्ग किमी तक होता है। यदि एक विस्फोट या समसामयिक कई विस्फोटों को नियंत्रित नहीं किया जाता है और आसपास के क्षेत्रों में व्यापक या असामान्य रूप से भारी बारिश होती है, तो प्रजनन के कई सिलसिलेवार मौसम बन सकते हैं जो आगे चलकर हॉपर बैंड और वयस्क झुंड के गठन का कारण बनते हैं। इसे अभ्युत्थान (UPSURGE) कहा जाता है और आम तौर पर पूरे क्षेत्र को प्रभावित करता है।

यदि एक अभ्युत्थान को नियंत्रित नहीं किया जाता है और पारिस्थितिक स्थिति प्रजनन के लिए अनुकूल रहती है तो टिड्डे की आबादी संख्या और आकार में वृद्धि जारी रखती है जो एक महामारी (PLAGUE) के रूप में विकसित हो सकता है। महामारी के समय अधिकांश संक्रमण बैंड और स्वार्म्स के रूप में होते हैं। जब दो या दो से अधिक क्षेत्र एक साथ प्रभावित होते हैं तो एक बड़ी महामारी होती है।

टिड्डी विस्फोट सामान्य है और आमतौर पर होते रहते हैं, इनमें से कुछ ही विस्फोट ऐसे हैं जो अभ्युत्थान का रूप लेते हैं और इसी तरह कुछ अभ्युत्थान महामारी का रूप। आखिरी महामारी को 1987-89 में तथा आखिरी बड़ा अभ्युत्थान 2003-05 में देखा गया था। अभ्युत्थान और महामारी किसी एक रात में नहीं उभरते, इन्हे विकसित होने में कई महीनों से लेकर एक या दो वर्ष का समय भी लग सकता है। (फोटो: डॉ. धर्मेंद्र खांडल)

वैश्विक स्तर पर लोकस्ट कि निगरानी संयुक्त राष्ट्र के फूड एण्ड ऐग्रिकल्चर ऑर्गेनाइजेसन (FAO) का लोकस्ट वॉच विभाग करता है जिसके मुताबिक वर्तमान टिड्डियों के आतंक की कहानी साल 2018 में अरबी प्रायद्वीप पर आए चक्रवाती तूफानों और भारी बारिश के साथ शुरू हुई थी। मई के तूफान से ही इतना पानी हो गया कि अगले छह महीनों के लिए रेगिस्तान में हरियाली उपजी जिस पर टिड्डियों की दो पीढ़ियां जीवन गुज़ार सकती थीं। इसके बाद अक्टूबर के तूफान के कारण टिड्डियों को प्रजनन और पनपने के लिए और कुछ महीनों का आधार मिल गया जहां इनकी तीन पीढ़ियाँ पली। यहां से ये खतरनाक हुईं और साल 2019 से अफ्रीका को निशाना बनाया। चक्रवातों के चलते ओमान और यमन जैसे दूरदराज के एकदम अविकसित इलाकों में टिड्डियों ने अपनी आबादी बढ़ाई।

एफएओ के लोकस्ट विशेषज्ञ कीथ क्रेसमैन के मुताबिक मानव संसाधन और उपग्रहों के माध्यम से संस्था टिड्डियों के दलों के संकट को लेकर निगरानी रखती है, लेकिन इस मामले में नाकाम साबित हुई। मॉनिटरिंग नेटवर्क ध्वस्त हो गया। क्रेसमैन के मुताबिक किसी को नहीं पता था कि धरती के इस दूरस्थ इलाके में तब क्या हो रहा था। इस इलाके में कुछ नहीं है, सड़कें नहीं हैं, कोई इन्फ्रास्ट्रक्चर नहीं है, फेसबुक नहीं, कुछ भी नहीं है। कुछ है तो रेत के बड़े बड़े टीले हैं, जो स्काईस्क्रेपरों से कम नहीं हैं।

जब टिड्डियों के दल झुंड में रहने की प्रवृत्ति विकसित कर लेते हैं, तब ये मुख्य रूप से कार्बोहाइड्रेट वाले भोजन पर निर्भर करने लगते हैं। जिस मिट्टी से लगातार फसलें ली जा चुकी हैं और जो ज़रूरत से ज़्यादा चराई जा चुकी है, उसमें से नाइट्रोजन गायब हो चुकी है। इसकी वजह से प्रोटीन तो मिट्टी में है नहीं इसलिए कार्बोहाइड्रेट बहुलता वाली घासें पैदा होती हैं। विशेषज्ञों ने दक्षिण अमेरिकी टिड्डियों पर किए अध्ययन में यह पाया है। (फोटो: डॉ. धर्मेंद्र खांडल)

साल 2018 के आखिर में जब ओमान में लोगों ने टिड्डियों के दलों को देखा तब कहीं जाकर क्रेसमैन की संस्था तक खबर पहुंची और अलर्ट कि स्थिति बनी। लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। यहां से टिड्डियों के दल यमन और ईरान तक पहुंच चुके थे और ओमान से लगातार निकलते हुए सामने आ रहे थे। युद्धग्रस्त रहे यमन के पास टिड्डियों के हमले से लड़ने के लिए फोर्स न होने का संकट था। यमन में इन स्थितियों के दौरान भारी बारिश हुई और टिड्डियों के दलों को प्रजनन के साथ ही और पनपने का अनुकूल वातावरण मिल गया। पिछले (2019) के बसंत और गर्मियों के मौसम में टिड्डियों की आपदा यहां से सोमालिया पहुंची और उसके बाद इथोपिया और केन्या में कहर टूटा। बीते मार्च अप्रैल में पूर्वी अफ्रीका में भारी बारिश हुई, जो फिर टिड्डियों के लिए वरदान साबित हुई। पिछले चालीस वर्षों में, रेगिस्तानी टिड्डे का निवारक रणनीति (preventive strategy) से नियंत्रण प्रभावी साबित हुआ है लेकिन टिड्डियों के विनाशकारी आवृत्ति और अवधि में कमी आने से लापरवाही और संगठनात्मक समस्याओं के कारण टिड्डियों का झुंड एक बार फिर गंभीर समस्या बनकर उभरा है।

हमले के समय टिड्डियों का सामना करना बहुत मुश्किल है क्योंकि ये बहुत बड़े इलाके में फैली होती हैं। टिड्डियों से निपटने में प्रारंभिक हस्तक्षेप ही स्वॉर्म को रोकने का एकमात्र सफल उपाय है। दुनिया भर के कई संगठन टिड्डियों से खतरे की निगरानी करते हैं। वे निकट भविष्य में टिड्डियों से पीड़ित होने की संभावना वाले क्षेत्रों का पूर्वानुमान प्रदान करते हैं। (फोटो: डॉ. धर्मेंद्र खांडल)

एफएओ की डेजर्ट लोकस्ट इनफार्मेशन सर्विस (DLIS) रोम, इटली से मौसम, पारिस्थितिक स्थितियों और टिड्डियों की स्थिति की दैनिक निगरानी करती है। DLIS प्रभावित देशों में राष्ट्रीय टीमों द्वारा किए गए सर्वेक्षण और नियंत्रण कार्यों के परिणाम प्राप्त करता है और इस जानकारी को उपग्रह डेटा, जैसे कि MODIS, वर्षा के अनुमान और मौसमी तापमान और वर्षा की भविष्यवाणी आदि के साथ जोड़कर वर्तमान स्थिति का आकलन कर अगले छह सप्ताह में होने वाले प्रजनन और प्रवास कि सूचनाओं का अनुमान लगता है।

भारत में वनस्‍पति संरक्षण, संगरोध एवं संग्रह निदेशालय (DPPQ&S) द्वारा गठित टिड्डी चेतावनी संगठन (Locust Warning Organisation) विभाग को अनुसूचित रेगिस्तानी क्षेत्रों (Scheduled Desert Area) विशेष रूप से राजस्थाान और गुजरात राज्यों में रेगिस्तानी टिड्डी पर निगरानी, सर्वेक्षण और नियंत्रण का उत्तरदायित्व सौंपा गया है। LWO, DLIS द्वारा जारी मासिक टिड्डी बुलेटिन के माध्यम से राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मौजूदा टिड्डी की स्थिति की अद्यतन जानकारी रखता है। कृषि कार्यकर्ताओं द्वारा खेतों से टिड्डियों कि स्थिति के सर्वेक्षण कर आंकड़े एकत्रित किए जाते हैं। फिर उन्हें LWO के मंडल कार्यालयों, क्षेत्रीय मुख्यालय, जोधपुर और केन्द्रींय मुख्यालय, फरीदाबाद भेजा जाता है जहां पर उनका परस्पर मिलान करके संकलित किया जाता है और टिड्डी के प्रकोप और आक्रमण की संभावना के अनुसार पूर्व चेतावनी के लिए विश्लेषण किया जाता है। टिड्डी की स्थिति से राजस्थान और गुजरात की राज्य सरकारों को अवगत कराया जाता है और उन्हें परामर्श दिया जाता है कि वे अपने कार्यकर्ताओं को तैयार रखें। टिड्डी सर्वेक्षण के आंकड़ों को शीघ्रता से भेजने, उनका विश्लेषण करने के लिए e-locust2 / e-locust3 और RAMSES जैसे नवीन साफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है।

ऐतिहासिक तौर पर लोग फसलों को टिड्डियों से बचाने अक्षम थे, हालांकि, आज हमारे पास पूर्वजों की तुलना में टिड्डियों से लड़ने के लिए गहन ज्ञान और प्रौद्योगिकी का फायदा है लेकिन फिर भी प्रभावित क्षेत्रों के अधिक फैलाव (16-30 मिलियन किमी), सीमित संसाधन, अविकसित बुनियादी ढाँचा और उन क्षेत्रों की पारगम्यता, आदि के कारण टिड्डियों को नियंत्रित या रोक पाना मुश्किल हो जाता है। (फोटो: डॉ. धर्मेंद्र खांडल)

वर्तमान में, रेगिस्तानी टिड्डी के संक्रमण को नियंत्रित करने की प्राथमिक विधि ऑर्गनोफॉस्फेट केमिकल्स (हर्बिसाइड और कीटनाशक में प्रमुख घटक) कि छोटी-छोटी गाढ़ी खुराकें हैं। जिनको वाहन पर लगे या फिर हवाई स्प्रेयरस से अति कम मात्रा में (ULV) छिड़क कर किया जाता है। कीटनाशक को टिड्डे सीधे या परोक्ष रूप से पौधे पर चलने से अथवा उनके अवशेषों को खाने पर अधिग्रहित कर लेते हैं। ये नियंत्रण पूरी तरह सरकारी एजेंसियों द्वारा किया जाता है। भारत के अनुसूचित रेगिस्तानी क्षेत्रों में प्रयोग के लिए DPPQ&S ने 4 कीटनाशक कि मंजूरी दी है। फसलों, बबूल, खैर और अन्य पेड़ों पर रेगिस्तानी टिड्डे के नियंत्रण के लिए 11 कीटनाशकों को मंजूरी दी है।

टिड्डियों के रोकथाम के लिए फन्जाइ, बैक्टीरीया, और नीम के रस से बने जैविक कीटनाशकों का उपयोग भी किया जाता है। कई जैविक कीटनाशकों की प्रभावशीलता पारंपरिक रासायनिक कीटनाशकों के बराबर है लेकिन सामान्य रूप से इनके इस्तेमाल से कीटों को मारने में अधिक समय लगता है। इनके रोकथाम के लिए प्रभावित क्षेत्रों में किसानों ने ऐसी फसलों को उगाना शुरू कर दिया है जिन्हें लोकस्ट स्वॉर्म के मौसम से पहले काटा जा सके। इसके अतिरिक्त, सेरोटोनिन के निषेध से लोकस्ट कि संख्या को प्रयोगशालाओं में नियंत्रित करने में सफलता मिली है, लेकिन इस तकनीक का फील्ड टेस्ट अभी बाकी है।

रेगिस्तानी टिड्डियों के शिकारी ततैया और मक्खियाँ (wasp and flies), परजीवी ततैया (parasitoid wasps), शिकारी बीटल लार्वा, पक्षी और सरीसृप आदि प्राकृतिक दुश्मन होते हैं। हाल ही में डॉ धर्मेन्द्र खांडल ने सवाई माधोपुर में जकोबीन कुक्कू, मोरनी को इनका शिकार करते देखा है। लेकिन इन शिकारियों कि सिमा है कि ये एकान्त आबादी को नियंत्रण में रखने में प्रभावी हो सकते हैं। स्वॉर्म और हॉपर बैंड में टिड्डों की भारी संख्या होने के कारण उनके खिलाफ इनका प्रभाव सीमित है। (फोटो: डॉ. धर्मेंद्र खांडल) 

हालांकि टिड्डे के हमले को समाप्त करना लगभग असंभव है, लेकिन स्वॉर्मस पर आक्रमण करके, अंडे कि एक बड़ी संख्या को नष्ट कर इनकी गंभीरता को कम किया जा सकता है। वर्तमान ‘प्लेग’ को नियंत्रित करने के लिए प्रभावित देशों में कड़े प्रयास किए जा रहे हैं। लेकिन आखिरकार ये कैसे समाप्त होंगे यह कह पान मुश्किल है। फिलहाल मानसून ही इनके स्वॉर्म को कुछ हद तक नियंत्रित कर पाएगा।

(more…)

अरावली की आभा: मामेर से आमेर तक

अरावली की आभा: मामेर से आमेर तक

अरावली, थार रेगिस्तान को उत्तरी राजस्थान तक सीमित रखे और विशाल जैव-विविधता को सँजोती पर्वत श्रृंखला हिमालय से भी पुरानी मानी जाती है। इसके 800 किलोमीटर के विस्तार क्षेत्र में 20 वन्यजीव अभयारण्य समाये हुए हैं, आइए इसकी विविधता कि एक छोटी यात्रा पर चलते है…

संसार की सबसे प्राचीनतम पर्वत श्रखलाओ में से एक अरावली, भारत के चार राज्यों गुजरात, राजस्थान, हरियाणा एवं  दिल्ली तक प्रसारित है। अरावली का अधिकतम विस्तार राजस्थान में ही है। तो इसके प्राकृतिक वैभव को जानने के लिए, आइये चलते है दक्षिणी राजस्थान के मामेर से उत्तर दिशा के आमेर तक।

मामेर, गुजरात राज्य की उत्तरी सीमा के पास बसे धार्मिक नगरों खेड़ब्रम्हा एवं अम्बाजी के पास स्थित है। यहाँ अरावली की वन सम्पदा देखते ही बनती है। प्रसिद्ध फुलवारी वन्यजीव अभयारण्य यहाँ से शुरू होकर उत्तर दिशा तक विस्तारित है। तो वहीँ मामेर की पश्चिमी दिशा की ओर से माउन्ट आबू अभयारण्य पहुंचा जा सकता है, जो राजस्थान का एकमात्र “हिल स्टेशन” है। फुलवारी, अरावली का एक मात्र ऐसा अभयारण्य है जहाँ धोकडा यानि एनोजीसस पेंडुला (Anogeissus pendula)  प्राकृतिक रूप से नहीं पाया जाता। अभयारण्यों में यही अकेला ऐसा अभयारण्य है जहाँ राजस्थान के सुन्दर बांस वन पाए जाते हैं।

अरावली पर्वत श्रृंखला के ऊँचे पहाड़ (फोटो: डॉ धर्मेंद्र खांडल)

इस क्षेत्र में आगे चलते है तो रास्ते में वाकल नदी आती है, यह नदी कोटड़ा के बाद गुजरात में प्रवेश कर साबरमती से मिल जाती है। वाकल नदी को पार कर डेढ़मारिया व लादन वनखंडो के सघन वनों को देखते हुए रामकुंडा पंहुचा जा सकता है। यहाँ एक सूंदर मंदिर एवं एक झरना भी है जो वर्षा ऋतु में दर्शनीय हो जाता है। यहीं एक कुंड में संरक्षित बड़ी-बड़ी मछलिया भी देखने को मिलती है।

इसी क्षेत्र में पानरवा नामक स्थान के पास सोमघाटा स्थित है जिस से होकर किसी समय में अंग्रेज़ रेजीडेंट, खैरवाड़ा, बावलवाड़ा होकर पानरवा के विश्राम स्थल में ठहरकर कोटड़ा छावनी पहुंचते थे। पानरवा से मानपुर होकर कोल्यारी के रास्ते कमलनाथ के पास से झाड़ोल पंहुचा जा सकता है। यह क्षेत्र “भोमट” के नाम से जाना जाता है। झाड़ोल के बहुत पास का क्षेत्र ” झालावाड़ ” कहलाता है। अरावली के इस क्षेत्र में चट्टानों पर केले की वन्य प्रजाति (Ensete superbum) उगती है। झाड़ोल के पास स्थित मादडी नामक गांव में राज्य का सबसे विशाल बरगद का पेड़ स्थित है तथा यहीं मादडी वनखंड में राज्य का सबसे बड़ा ” बॉहिनिया  वेहलाई ” (Bauhinia vahlii) कुञ्ज भी विध्यमान है।

उत्तर की तरफ बढ़ने पर जूड़ा, देवला, गोगुंदा आदि गांव आते हैं। फुलवारी की तरह, यहां भी मिश्रित सघन वन पाए जाते हैं तथा इस क्षेत्र में अरावली की पहाड़ियों पर मिट्टी की परत उपस्थित होने के कारण उत्तर व मध्य अरावली के मुकाबले यहाँ अधिक सघनता व जैव विविधता वाले वन पाए जाते हैं। इस क्षेत्र के “नाल वन” जो दो सामानांतर पर्वत श्रंखला के बीच नमी वाले क्षेत्र में बनते हैं दर्शनीय होते हैं। नाल सांडोल, केवड़ा की नाल, खोखरिया की नाल, फुलवारी की नाल, सरली की नाल, गुजरी की नाल आदि इस क्षेत्र की प्रसिद्ध नाल हैं। जिनके “रिपेरियन वन” (नदी या नालों के किनारे के वन) सदाबहार प्रजातियों जैसे आम, Syzygium heyneanum (जंगली जामुन), चमेली, मोगरा, लता शीशम, Toona ciliata, salix, Ficus racemosa, Ficus hispida, Hiptage benghalensis (अमेती), कंदीय पौधे, ऑर्किड, फर्न, ब्रयोफिट्स आदि से भरे रहते हैं।

अरावली, विशाल जैव-विविधता को सँजोती पर्वत श्रृंखला (फोटो: डॉ धर्मेंद्र खांडल)

अरावली के दक्षिणी भाग में Flying squirrel, Three-striped palm squirrel, Green whip snake, Laudankia vine snake, Forsten’s cat snake, Black headed snake, Slender racer, Red spurfowl, Grey jungle fowl (जंगली मुर्गा), Red whiskered bubul, Scimitar babbler (माऊंट आबू), White throated babbler आदि जैसे विशिष्ट प्राणी निवास करते है। राज्य की सबसे बड़ी मकड़ी “जायन्ट वुड स्पाइडर” यहाँ फुलवारी, कमलनाथ, कुम्भलगढ़ व सीतामाता में देखने को मिलती है तथा राज्य का सबसे बड़ा शलभ “मून मॉथ ” वर्षा में यहाँ जगह-जगह देखने को मिलता है। कभी बार्किंग डीयर भी यहाँ पाए जाते थे। सज्जनगढ़ व इसके आसपास भारत की सबसे छोटी बिल्ली “रस्टी स्पॉटेड कैट” भी देखने को मिलती है।

देवला के बहुत पास पिंडवाडा रोड पर सेई नामक बाँध पड़ता है, जिसे “इम्पोटेंड बर्ड एरिया” होने का गौरव प्राप्त है। राजस्थान के 31 मान्य आई.बी.ए में से 12 स्थान; जयसमंद झील व अभयारण्य, कुंभलगढ़, माऊंट आबू, फुलवारी, सरेसी बाँध, सेई बाँध, उदयपुर झील संकुल एवं बाघदड़ा आदि, दक्षिण राजस्थान में अरावली क्षेत्र व उसके आसपास विध्यमान हैं।

आइये देश के सागवान वनों की उत्तर व पश्चिम की अंतिम सीमा, सागेटी, चित्रवास व रीछवाडा की ओर बढ़ते हैं। इस क्षेत्र से पश्चिम में जाने पर पाली जिले की सीमा आ जाती है। यहाँ सुमेरपुर से होकर सादडी, घाणेराव आदि जगह का भू – भाग “गोडवाड़” के नाम से जाना जाता है। गोडवाड़  में अरावली व थार का मिलन होने से एक मेगा इकोटोन बनता है जो अरावली के पश्चिम ढाल से समान्तर आगे बढ़ता चलता है।

कुंभलगढ़ अभयारण्य, सागवान वितरण क्षेत्र के अंतिम बिंदु से प्रारम्भ होता है जो देसूरी की नाल को लांघते ही रावली-टॉडगढ़ अभयारण्य के जंगलों से मिल जाता है। इस क्षेत्र में जरगा व कुम्भलगढ़ के ऊंचे पर्वत शिखर देखने को मिलते हैं। जरगा, माउंट आबू के बाद सबसे ऊंचा स्थल है। इस क्षेत्र की आबोहवा गर्मी में सुहानी बनी रहती है। गोगुन्दा व आसपास के क्षेत्र में गर्मी की रातें काफी शीतल व सुहावनी रहती है। इस क्षेत्र में दीवारों, चट्टानों व वृक्षों पर लाइकेन मिलती हैं। जरगा में नया जरगा नामक स्थान पश्चिमी ढाल पर व जूना जरगा पूर्वी ढाल पर दर्शनीय मंदिर है एवं पवित्र वृक्ष कुज भी है। कुंभलगढ़ व जरगा में ऊंचाई के कारण अनेकों विशिष्ट पौधे पाए जाते हैं। यहाँ Toona ciliate, Salix, Salix tetrandra, Trema orientalis, Trema politoria, Ceasalpinia decapetala, Sauromatum pedatum आदि देखने को मिलते हैं। जरगा पहाड़ियों को पूर्वी बनास का उद्गम स्थल माना जाता है। जरगा के आसपास बनास के किनारे विशिष्ट फर्नो का अच्छा जमाव देखा जाता है। वेरो का मठ के आस पास मार्केंशिआ नामक ब्रायोफाइट देखा गया है। कुंभलगढ़ में ऐतिहासिक व धार्मिक महत्त्व के अनेकों स्थान है तथा कुछ स्थान जैसे कुंभलगढ़ किला, रणकपुर मंदिर , मुछाला महावीर, पशुराम महादेव आदि मुख्य दर्शनीय स्थान है।

आगे चलते है रावली-टॉडगढ़ अभयारण्य की ओर। इतिहासकार कर्नल टॉड के नाम से जुडी रावली-टॉडगढ़ अभयारण्य वन्यजीवों से भरपूर है। यहाँ आते-आते वन शुष्क पर्णपाती हो जाते है तथा पहाड़ पथरीले नजर आते है। यहाँ धोकड़ की क्लाइमैक्स आबादी को देखा जा सकता है। यह अभयारण्य ग्रे जंगल फ़ाउल की उतरी वितरण सीमा का अंतिम छोर है।

उतर दिशा में आगे बढ़ने पर राजसमन्द एवं अजमेर के बीच पहाड़ियां शुष्क होने लगती है। धोकड़े के जंगलो में डांसर व थूर का मिश्रण साफ़ दीखता है और सघनता विरलता में बदल जाती है। इसी भाग में सौखालिया क्षेत्र विद्यमान है जो गोडवान (Great Indian bustard) के लिए विख्यात है। कभी – कभार खड़मोर (Lesser florican) भी यहाँ देखने को मिलता है। यहाँ छितरे हुए गूगल के पेड़ मिलते हैं जो एक रेड डेटा प्रजाति है। इस भाग में आगे बढ़ने पर नाग पहाड़ आता है जो की काफी ऊँचा है, जहाँ कभी सघन वन एवं अच्छी जैव विविधता पायी जाती थी।

हमारी यात्रा के अंतिम पड़ाव में जयपुर के पहाड़ आते हैं और यहीं पर स्थित है, आमेर।  झालाना व नाहरगढ़ अभयारण्य में अधिक सघनता व जैव विविधता वाले वन हैं। कभी यहाँ बाघ तथा अन्य खूंखार प्राणियों की बहुतायत हुआ करती थी। यहाँ White-naped tit और Northern goshawk जैसे विशिष्ट पक्षियों को आसानी से देखा जा सकता है। यहाँ से पास ही में स्थित है सांभर झील। सांभर झील, घना के बाद दूसरा रामसर स्थल है तथा हर वर्ष बहुत प्रजातियों के प्रवासी पक्षी यहाँ आते हैं । रामसागर और मानसागर इस क्षेत्र के प्रसिद्ध जलाशय हैं जो जलीय जीव सम्पदा के खजाने हैं। कभी रामगढ भी यहाँ का प्रसिद्ध जलाशय हुआ करता था परन्तु मानवीय हस्तक्षेपों के चलते वह सूख गया।

हम रुकते हैं, अभी आमेर में लेकिन अरावली को तो और आगे जाना है, आगे दिल्ली तक!!